Uncategorized

शिक्षा शिखर सम्मलेन 2019

शिक्षा शिखर सम्मलेन २०१९

सावित्री बाई फुले के जन्म सप्ताह पर दिनांक 13 जनवरी 2019, नई दिल्ली के लाजपत भवन सभागार, लाजपत नगर दिल्ली में मौर्य फ्रेंड्स ग्रुप द्वारा शिक्षा  शिखर सम्मलेन समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें “भारतीय शिक्षा प्रणाली और महिला सशक्तिकरण” विषय पर विचारमंथन किया गया था ।

 

इस कार्यक्रम में मुख्य अथिति मा. संतोष भगत (अंतर्राष्ट्रीय उद्योगपति), मा. प्रियंका शाक्य (इंटेरप्रेनुर) और  मा.अविनाश चंद्र  (एस.डी.एम. – बुलंद शहर) विशिष्ट अथिति रहे।

 

इस कार्यक्रम पर वर्त्तमान में शिक्षा व्यवस्था और उसमें महिला शिक्षा की दशा पर विचार विमर्श किया गया।

 

इस सम्मेलन में उत्कृष्ट विद्यार्थियों अध्यापकों और व्यपार , तकनीक, उद्योग, ….. अदि क्षेत्रों से जुड़े लोगो को सम्मानित भी किया गया।

पुरस्कार की श्रेणी “वरिष्ठता का सम्मान” में वरिष्ठ नागरिकों को समाज के प्रति किये किए कार्यों के लिए सम्मानित किया गया।

 

बच्चों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। गायक बबली सैनी जी द्वारा माता सावित्री बाई फुले के सम्मान में गीत प्रस्तुत किया गया।

 

ब्रेन बूस्टर संस्थान द्वारा अभिभावकों को शिक्षा पद्धति में हो रहे सतत बदलाव से अवगत कराया गया, साथ ही अभिभावक एवं बच्चों को ध्यान पद्धति और स्वस्थ जीवनशैली का लाभ “बौद्धिक एवं शिक्षा स्तर में वृद्धि और भावनात्मक रूप से स्थिरता” के बारे में बताया गया।बच्चों द्वारा ध्यान से जुड़ी रोचक गतिविधियों का प्रदर्शन किया गया।

 

मौर्य फ्रेंड्स ग्रुप के कार्यों की उपस्थित अथितियों ने सराहना की और साथ उसमें अपनी भागेदारी और साथ भी सुनिश्चित किया।

सफल आयोजन का श्रेय सभी उपस्थित लोगों का रहा।

आज से फ्रिज-एसी-वाशिंग मशीन समेत 19 विदेशी वस्तुएं महंगी

आयातित एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर और वाशिंग मशीन अब महंगे हो जाएंगे। सरकार ने इन वस्तुओं के साथ-साथ 19 वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ा दिया है, ताकि बढ़ते चालू खाता घाटा (सीएडी) पर लगाम लगाया जा सके। ये शुल्क बुधवार मध्य रात से ही लागू होगा। सरकार ने कहा कि ये सब सामान गैर जरूरी हैं, इसलिए इनके आयात को हतोत्साहित करने के लिए शुल्क बढ़ाया गया है।

केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने कहा कि केंद्र सरकार ने आयात किए जाने वाले कुछ सामानों का आयात घटाने के लिए आधारभूत सीमा शुल्क में बढ़ोतरी के जरिए शुल्क बढ़ाने का फैसला किया है। इन बदलावों का मकसद चालू खाता घाटा को कम करना है। कुल मिलाकर 19 सामानों पर सीमा शुल्क बढ़ाया गया है।

अब आयात किए जाने वाले एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर तथा 10 किलो तक के वाशिंग मशीन पर आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ा कर 20 फीसदी कर दिया गया है। यही नहीं, एयर कंडीशनर तथा रेफ्रिजरेटर के कंप्रेशर पर भी आयात शुल्क 7.5 फीसदी से बढ़ा कर 10 फीसदी कर दिया गया है।

इन वस्तुओं के अलावा स्पीकर, जूते, रेडियल कार टायर, आभूषण सामग्रियां, कई तरह के हीरे, बाथरूम, रसोई और घरों में काम आने वाले कुछ साजो-सामान, प्लास्टिक के कुछ खास सामान तथा ऑफिस स्टेशनरी, ट्रंक तथा हवाई जहाज के इंधनों पर भी शुल्क बढ़ा है। इस दायरे में शामिल अन्य वस्तुओं में वाशिंग मशीन, स्पीकर्स, रेडियल कार टायर, आभूषण, रसोई के सामान, कुछ प्लास्टिक के सामान और सूटकेस शामिल हैं। बता दें कि एसी, फ्रिज और वाशिंग मशीन (जिनका भार 10 किलोग्राम से कम है) पर आयात शुल्क को बढ़ाकर 20 प्रतिशत कर दिया गया है।

खुशखबरः आयुष्मान भारत योजना से जुड़ी जानने योग्य बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को झारखंड से आयुष्मान भारत-राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन का शुभारंभ करेंग। आयुष्मान भारत योजना आज से ही देश भर में लागू हो जाएगी। आयुष्मान भारत योजना केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से शुरू की गई स्वास्थ्य बीमा योजना है। इसके तहत गरीब परिवारों को पांच लाख रुपये तक के फ्री इलाज की सुविधा उपलब्ध होगी। आइए आज आपको बताते हैं आयुष्मान भारत योजना से जुड़ी कुछ खास बातें…

-हर परिवार का 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कराया जाएगा। इस बीमा कवर से आप छोटे और बड़े सभी तरह के अस्पतालों में इलाज करा सकेंगे।
-अस्पताल में भर्ती होने से पहले के स्वास्थ्य संबंधी खर्चे और अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद के खर्चे भी इसमें शामिल होंगे।
-पॉलिसी लेने के पहले दिन से ही ये सारी सुविधाएं मिलने लगेंगी। अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में आने जाने का भत्ता भी दिया जाएगा।
-इस योजना के तहत आप देश के किसी भी हिस्से में इलाज करा सकेंगे।
-किसी भी एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल में इलाज को ट्रांसफर कराया जा सकता है।

यह है प्राथमिकता

-ऐसा परिवार जो कच्चे मकान या छप्पर में रह रहा हो।
-ऐसा परिवार जिनमें 16 से 59 वर्ष की उम्र तक का कोई वयस्क सदस्य न हो।
-ऐसा परिवार जिसकी जिम्मेदारी कोई महिला संभाल रही हो और उसके परिवार में कोई 16 से 59 वर्ष तक का पुरुष सदस्य न हो।
-शारीरिक रूप से दिव्यांग व्यक्ति, जिसके परिवार में कोई भी शारीरिक रूप से सक्षम व्यक्ति न हो
-एससी एसटी परिवार और भूमिहीन परिवार, जिनकी आजीविका का मुख्य स्रोत मानवीय श्रम हो।

यह मिलेगा लाभ
-आयुष्मान भारत योजना के रेट में इलाज संबंधी सभी तरह के (दवाई, जांच, ट्रांसपोर्ट, इलाज पूर्व, इलाज पश्चात के खर्चे) खर्चे शामिल होंगे।
-भुगतान में देरी पर बीमा कंपनी को देना होगा हर हफ्ते एक प्रतिशत ब्याज।

Translate »