RTI

दिसंबर 2019 से जारी होंगे ई-पासपोर्ट, इनमें लगी चिप से एयरपोर्ट पर वेरिफिकेशन होगा आसान

विदेश मंत्रालय :ने अंतरराष्ट्रीय सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन से सहमति मिलने के बाद ई-पासपोर्ट जारी करने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। ई-पासपोर्ट में लगी एक छोटी से चिप में पासपोर्ट धारक की पूरी डिटेल मौजूद होगी। लोगों को यह ई-पासपोर्ट दिसंबर 2019 तक मिलने लगेगा। पहले इसे ट्रायल बेस पर जारी किया जाएगा, बाद में कमर्शियल रूप में लोगों को मिलेगा।

नासिक में होगी प्रिंटिंग: विदेश मंत्रालय के अनुसार इसके टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ई-पासपोर्ट की मैन्‍युफैक्‍चरिंग नासिक के इंडियन सिक्‍योरिटी प्रेस (आईएसपी) में होगी। इसके लिए आईएसपी को इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गनाइजेशन (आईसीएओ) द्वारा पासपोर्ट बनाने में यूज होने वाले ऑपरेटिंग सिस्‍टम को लेने का टेंडर डालने की अनुमति दी गई है। टेंडर प्रकिया पूरी होते ही पासपोर्ट बनना शुरू हो जाएगा।

चिप में होगी धारक की बायोमैट्रिक पहचान: ई-पासपोर्ट वर्तमान पासपोर्ट की तरह ही होंगे। इसमें एक चिप लगी होगी, जिसमें पासपोर्ट अधिकारी के डिजिटल सिग्नेचर के अलावा पासपोर्ट धारक का नाम, जेंडर, डेट ऑफ बर्थ और एक डिजिटल फोटो होगी। वहीं पासपोर्ट में मौजूद चिप में धारक की उंगलियों के निशान भी शामिल होंगे।

नहीं हो सकेगी टेम्परिंग : विदेश मंत्रालय ने ई-पासपोर्ट लाने का उद्देश्य मुख्य तौर पर सुरक्षा सुविधाओं में सुधार करना बताया है। वर्तमान में जो पासपोर्ट जारी किए जा रहे हैं, ई-पासपोर्ट उससे ज्यादा सुरक्षित होंगे। हाई सिक्योरिटी चिप लगे होने के कारण इसमें किसी भी प्रकार से टेम्परिंग करना संभव नहीं होगा। साथ ही इसका एयरपोर्ट जैसी जगहों पर भौतिक सत्यापन आसानी होगा। वर्तमान में 100 से अधिक देश ई-पासपोर्ट जारी कर रहे हैं। इस सूची में पाकिस्तान का नाम भी शामिल है।

Translate »