Crime

नोएडा में दिनदहाड़े हुआ सॉफ्टवेयर इंजीनियर से छिनैती की कोशिश

सॉफ्टवेयर इंजीनियर कृष्णा मुरारी सिंह

नोयडा सेक्टर २ में सॉफ्टवेयर इंजीनियर कृष्णा मुरारी सिंह दोपहर में अपने ऑफिस के निकलते है और रस्ते में उनके फ़ोन पर एक दोस्त का कॉल आता है और वो फ़ोन रिसीव कर क्ले रस्ते बात करते हुए जा रहे थे तभी पीछे से दो मोटरसीयकिल सवार उनके फ़ोन को छीनने की नाकाम कोशिश कर ते है | तभी कृष्णा मुरारी सिंह ने अपने सूझबूझ से उनको पकड़ा और उनके मोटरसायकिल को अपने कब्जे लेकर नोएडा सेक्टर १ पुलिस चौकी में पुलिस घटना का विवरण देते हुए मोटरसिकिल को पुलिस को सौप दिया | बताते चले की ऐसा वारदात नोयडा में अक्सर होती रहती है | उक्त समय पर कृष्ण मुरारी ने अपनी समझ और बहादुरी मोटरसायकिल ही नहीं बल्कि थोड़े टाइम के बाद चोर को भी पकड़ के पुलिस को सौप दिया |

अमेज़न CEO जेफ बेजोस का फोन हैक

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि बेजोस को “क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान द्वारा इस्तेमाल किए गए व्हाट्सएप अकाउंट के कारण उसके फोन की हैकिंग के माध्यम से घुसपैठ की निगरानी के अधीन किया गया था”। रिपोर्ट ने ब्रेक-इन को वाशिंगटन पोस्ट की सऊदी शासन और प्रिंस एमबीएस की आलोचना से जोड़ा – मीडिया संगठन जो कि बेजोस का मालिक है।

बेजोस के फोन से पता चला कि यह व्हाट्सएप संदेश के माध्यम से हैकिंग कि गया था

FTI की रिपोर्ट में कहा गया है कि स्पाइवेयर संभावना महीनों के दौरान बेजोस के फोन से मिली जानकारी के लिए गीगाबाइट चुरा लेती है। “बेजोस के iPhone X से उत्पन्न सेलुलर डेटा की समय-सीमा के विश्लेषण से पता चलता है कि वीडियो की डिलीवरी के कुछ घंटों के भीतर अनधिकृत ईगोर डेटा में 29,156 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। 2 मई, 2018 को प्रारंभिक स्पाइक के बाद इग्रेड डेटा में कई अतिरिक्त उल्लेखनीय स्पाइक्स भी थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि अत्यधिक एटिपिकल 4.6 जीबी के माध्यम से 221 एमबी से लेकर।

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि बेजोस को “क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान द्वारा इस्तेमाल किए गए व्हाट्सएप अकाउंट के कारण उसके फोन की हैकिंग के माध्यम से घुसपैठ की निगरानी के अधीन किया गया था”। रिपोर्ट ने ब्रेक-इन को वाशिंगटन पोस्ट की सऊदी शासन और प्रिंस एमबीएस की आलोचना से जोड़ा – मीडिया संगठन जो कि बेजोस का मालिक है।

हैक के लिए फेसबुक ने iOS को दोषी ठहराया

हाल ही में एक विकास में, व्हाट्सएप मूल कंपनी फेसबुक ने बेजोस के फोन की हैकिंग के लिए एप्पल के ऑपरेटिंग सिस्टम को जिम्मेदार ठहराया है। इसमें कहा गया है कि व्हाट्सएप का एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन अचूक है। पिछले सप्ताह बीबीसी को दिए एक साक्षात्कार में, फेसबुक के वैश्विक मामलों और संचार के उपाध्यक्ष, निक क्लेग ने हैक की तुलना एक दुर्भावनापूर्ण ईमेल को खोलने के लिए करते हुए कहा कि “यह केवल जीवन के लिए आता है जब आप इसे खोलते हैं”।

इसके अलावा, एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन ट्रांज़िट में जानकारी की सुरक्षा करता है, लेकिन एक बार डिवाइस को हैक करने के बाद, E2E सुरक्षा बेकार हो जाती है।

वाशिंगटन पोस्ट का कहना है कि एमबीएस जेफ बेजोस का फोन हैक नहीं कर सकता

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान
सऊदी अरब क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमानफ़ेएज़ नूरडाइन / एएफपी / गेटी इमेजेज़
अपने “एडिटोरियल बोर्ड” के वाशिंगटन पोस्ट के एक लेख में कहा गया है कि भले ही एक अनुबंधित साइबर सिक्योरिटी कंसल्टेंसी को “मध्यम से उच्च आत्मविश्वास” के रूप में देखा गया हो, लेकिन वे यह निश्चित रूप से नहीं जानते हैं कि जेफोस को हैक करने के लिए सऊदी क्राउन प्रिंस एमबीएस जिम्मेदार हैं ‘ आई – फ़ोन । हालांकि, पोस्ट ने कहा कि वे जानते हैं कि “निजी कंपनियों द्वारा बेची गई स्पाइवेयर समान घुसपैठ के लिए जिम्मेदार हैं – और यह कि इन उपकरणों को बेचने वाले छायादार उद्योग पर प्रकाश डालने के लिए दुनिया ने बहुत कम किया है”।

खैर, रहस्य अनसुलझा है और बहुत सारे सिद्धांत 2020 के सबसे प्रभावशाली हैकिंग घटना के लिए एक नए कोण को स्पिन करने की कोशिश कर रहे हैं। अपडेट के लिए बने रहें।

ब्राह्मण के बेटे ने किया लड़की के साथ बलात्कार

मौर्य समाज की बेटी के साथ बलात्कार ब्राह्मण का बेटा करे.. तो थाना पुलिस और एसपी केस को दबाने में लगे हैं..! हिंदू-हिंदू चिल्लाने  वाले हिंदू संगठन, बजरंग दल और भाजपा के कार्यकर्ता पुलिस पर केस न दर्ज करने का दबाव बना रहे हैं.. यही इनका हिंदुत्व है..! धमकी दी जा रही है जान से मारने की, और फर्जी केस में फंँसाने की.! 

घटना इस प्रकार है जिला- सीतापुर थाना मिश्रिख ग्राम रमपुरवा मजरा विजानग्रन्ट के निवासी श्री वीरेन्द्र कुमार मौर्य की नाबालिकबेटी को 12/01/2020 रात में घर में अकेली थी.. उसे जबरन गांँव का ही रहने वाला “मानू पाण्डेय” चाकू की नोक पर अपहरण कर लेता है.. उसके साथ बलात्कार करता है..पुलिस FIR दर्ज नहीं कर रही है.. उल्टे धमकी दी जा रही है..!!   यही भाजपा का हिंदुत्व है..और शायद भाजपा का यही न्याय है..!!

बलात्कार पर हल्ला मचाने वाले.. तत्काल फांँसी दिलाने वाले.. मोमबत्ती जलाने वाले.. मौर्य समाज की बेटी के साथ हुए अन्याय पर चुप क्यों हैं..? क्या यह हिन्दू की बेटी नहीं है..!!

पी चिदंबरम ने INX मीडिया स्कैम मामले में घर से गिरफ्तार किया गया ।

पी चिदंबरम ने INX मीडिया स्कैम मामले में घर से गिरफ्तार किया गया।

पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम बुधवार रात अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) मुख्यालय में नाटकीय रूप से प्रदर्शन करने के एक घंटे बाद नई दिल्ली के जोर बाग स्थित निवास से केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) द्वारा गिरफ्तार किए गए। उन्हें सीबीआई मुख्यालय ले जाया गया। चिदंबरम इससे पहले आईएनएक्स मीडिया घोटाला मामले में अपनी अग्रिम जमानत याचिका को ठुकराते हुए दिल्ली हाईकोर्ट जाने के मद्देनजर “इनकंपनीडो” जाने के लगभग 24 घंटे बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिखाई दिए। सीबीआई ने बुधवार को पूर्व वित्त और गृह मंत्री पी चिदंबरम को उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस के बाद गिरफ्तार किया। चिदंबरम, जिन्हें 2008 के INX मीडिया मामले के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था, पर धन शोधन और वित्त मंत्री के पद का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया गया है।

उनकी उपस्थिति के बाद, CBI और प्रवर्तन निदेशालय दोनों की टीमें उनके पॉश जोर बाग स्थित निवास पर पहुंचीं। अभूतपूर्व नाटक में, सीबीआई अधिकारियों ने पहुँच प्राप्त करने के लिए अपने घर की दीवार को छोटा किया।

उनके बेटे कार्ति चिदंबरम पर भी मामले में शामिल होने का आरोप लगाया गया है। जबकि चिदंबरम ने अपने खिलाफ आरोपों से इनकार किया है, दिल्ली उच्च न्यायालय ने हाल ही में वरिष्ठ कांग्रेस नेता को जमानत देने से इनकार कर दिया और उन्हें घोटाले का “किंगपिन” करार दिया।

सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय दोनों ने पी चिदंबरम को गिरफ्तार करने का प्रयास किया और असफल रहने के कारण राष्ट्र में मंगलवार रात से घटनाओं का एक नाटकीय मोड़ देखा गया है।

हालांकि, वे आखिरकार बुधवार रात को अपने आवास से कांग्रेस नेता को गिरफ्तार करने में कामयाब रहे, क्योंकि उनके वकील सुप्रीम कोर्ट में तत्काल सुनवाई करने में विफल रहे, ताकि दिल्ली HC के आदेश पर रोक लगाई जा सके।

उन्नाव गैंगरेप केस की पूरी स्टोरी : लड़ाई संघर्ष और बाहुबल की ।

उन्नाव गैंगरेप केस की पूरी स्टोरी : लड़ाई संघर्ष और बाहुबल की ।

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता से साल 2017 में गैंगरेप हुआ था. दो साल गुजरने के बाद भी शासन और प्रशासन ने उसके साथ इंसाफ नहीं किया और अब जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है. दरअसल पीड़िता से गैंगरेप का आरोप बीजेपी के बाहुबली विधायक कुलदीप सेंगर पर है. जुलाई 2017 में पीड़िता ने इंसाफ पाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक को चिट्ठी लिखी. लेकिन उसे न्याय नहीं मिला.

इसके बाद पीड़िता ने उन्नाव जिला अदालत में अर्जी दी. इस अर्जी में पीड़िता ने विधायक के समर्थक शुभम नाम के आरोपी की मां पर नौकरी के बहाने विधायक के घर ले जाने का आरोप लगाया था. मामले ने जब तूल पकड़ा तो विधायक कुलदीप सेंगर के समर्थकों ने पीड़िता के परिवार पर मानहानि का केस कर दिया.
मामला हाई कोर्ट पहुंचता है. हाई कोर्ट की फटकार के बाद पुलिस आरोपी विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करती है. बाद में केस की जांच सीबीआई को सौंप दी जाती है. इसके बाद आखिरकार 13 अप्रैल को सीबीआई आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर को उसके लखनऊ स्‍थ‍ित आवास से गिरफ्तार करती है और उसे जेल भेज देती है.
सड़क दुर्घटना में पीड़िता चाची की मौत हो गयी वह एक अहम् गवाह थी. जबकि पीड़िता और उसके वकील की हालत नाजुक बनी हुई है.
गाड़ी के नंबर प्लेट को छुपाए जाने पर एडीजी राजीव कृष्णा ने कहा, ”ट्रक के मालिक का कहना है कि ट्रक को फ़ाइनैंस कराया गया था और इसके पैसे उसने नहीं दिए थे, ऐसे में फ़ाइनैंसर इसे ना पकड़ सके इसलिए गाड़ी का नंबर छिपाया गया था.”
सड़क दुर्घटना मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ठाकुर और नौ अन्य के खिलाफ हत्या के आरोपों के तहत मामला दर्ज किया है. मामले की जांच करने के लिए एजेंसी की तरफ से गठित विशेष टीम रायबरेली जिले के गुरबख्शगंज इलाके में हादसा स्थल पर पहुंची. सेंगर के अलावा दुर्घटना मामले में जिन लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गई है, उनमें उनके भाई मनोज सिंह सेंगर, अरुण सिंह, विनोद मिश्रा, हरी पाल सिंह, नवीन सिंह, कोमल सिंह, ज्ञानेन्द्र सिंह, रिंकू सिंह, वकील अवधेश सिंह और 15 से 20 अज्ञात व्यक्ति हैं.
गाड़ी के नंबर प्लेट को छुपाए जाने पर एडीजी राजीव कृष्णा ने कहा, ”ट्रक के मालिक का कहना है कि ट्रक को फ़ाइनैंस कराया गया था और इसके पैसे उसने नहीं दिए थे, ऐसे में फ़ाइनैंसर इसे ना पकड़ सके इसलिए गाड़ी का नंबर छिपाया गया था.”
कहा जा रहा है कि बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की तरफ से मिल रही धमकियों की वजह से पीड़िता (मौर्य समाज से आती है)और उसके वकील ने प्रशासन से हथियार का लाइसेंस मांगा था. रायबरेली में ट्रक से टक्कर के बाद पीड़िता अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रही है.

कैलाश विजयवर्गीय ने अफसर पर ताना था जूता, अब बेटे ने चलाया बल्ला।

कैलाश विजयवर्गीय ने अफसर पर ताना था जूता, अब बेटे ने चलाया बल्ला।

नगर निगम अधिकारी की बल्ले से पिटाई करने वाले भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश की जमानत याचिका शुक्रवार को भोपाल की विशेष अदालत में दायर की गई। भाजपा के वरिष्ठ नेता विश्वास सारंग वकीलों के साथ कोर्ट पहुंचे। मामले में विशेष न्यायाधीश सुरेश सिंह ने इंदौर से केस डायरी बुलाए जाने के आदेश दिए हैं।शनिवार को केस डायरी आने के बाद ही आगे की सुनवाई होगी।

इसके पहले गुरुवार को उनकी तरफ से अपर सत्र न्यायालय में जमानत अपील दायर की गई थी। कोर्ट ने यह कहते हुए अपील खारिज कर दी कि मंत्री, विधायकों से जुुड़े आपराधिक मामलों की सुनवाई के लिए भोपाल में एक कोर्ट निर्धारित कर दी गई। इस कोर्ट को जमानत अर्जी पर सुनवाई का अधिकार नहीं है।

सीएम कमलनाथ बोले- यह बड़े दुख की बात है। भाजपा नेताओं के ऐसे काम को पूरा प्रदेश देख रहा है। इस मामले में अब पुलिस को साबित करना है कि उसकी कार्रवाई सही है।

कमलनाथ, मुख्यमंत्री
आकाश की ओर से पेेश जमानत अर्जी में धार के पूर्व विधायक व कांग्रेेस नेता बालमुकुंद सिंह गौतम को इंदौर कोर्ट से दी गई जमानत का हवाला दिया गया। अर्जी में लिखा कि उन्हें भी जमानत इंदौर से ही मिली। इस मामले में इंदौर की कोर्ट सुनवाई कर सकती है। लेकिन आकाश की दलील को कोर्ट द्वारा यह कहते हुए खारिज कर दिया कि गौतम को जमानत मप्र हाई कोर्ट के 26 फरवरी 2018 को जारी हुए नोटिफिकेशन से पहले दी गई थी इस वजह से आकाश की अर्जी को सुुना नहीं जा सकता।

राष्ट्रद्रोह : रायबरेली- जौनपुर हाईवे पर बने अशोक चक्र को पंचायत ने तुड़वाया और सरकार सो रही है। 

राष्ट्रद्रोह : रायबरेली- जौनपुर हाईवे पर बने अशोक चक्र को पंचायत ने तुड़वाया और सरकार सो रही है।

मछलीशहर। रायबेरली- जौनपुर हाईवे पर सुंदरीकरण के लिए छह वर्ष पूर्व कस्बे के चौराहे पर लगाएं गए अशोक चक्र को नगर पंचायत ने तोड़वा दिया। नगर पंचायत अनुमति लेकर तोड़ने का दावा कर रहा है जबकि हाईवे अर्थारिटी का कहना है कि सुंदरीकरण की अनुमति दी गई थी, तोड़ने की नहीं। इसके खिलाफ वह प्रशासन पत्र लिखा जाएगा।
नगर के चुंगी चौराहे और मुंगराबादशाहपुर तिराहे पर बलुआ पत्थर से सुंदरीकरण किया गया था। चुंगी चौराहे पर पांच फीट ऊंची व 20 फीट वर्गाकार चहारदीवारी मध्य में दस फिट की ऊंचे अशोक चक्र का निर्माण कराया गया था। इसी तरह मुंगराबादशाहपुर तिराहे पर पत्थर से ही एक लाट का निर्माण किया गया था। इन दोनों निर्माण स्थल पर नगर पंचायत अब छह-छह लाख की लागत से नए पत्थर लगाकर नवनिर्माण करवाने जा रहा है। इसके लिए हाईवे अथारिटी से अनापत्ति प्रमाण पत्र नगर पंचायत को प्राप्त हो गया है। रविवार को उक्त निर्माण ध्वस्त करने का काम शुरू हो गया है। नगर वासियों का कहना है कि अभी दो तीन वर्ष पूर्व ही लाखों रुपये की लागत से हुए निर्माण को तोड़वाने के बजाय टाइल्स और पेंट से सुंदर बनाकर नव निर्माण में खर्च होने वाले सरकारी धन को बचाया जा सकता था। इस धनराशि से दूसरा विकास का कार्य किया जा सकता था। इस बाबत नगर के अधिशासी अधिकारी धीरज सिंह का कहना है कि हाइवे निर्माण के समय पीएनसी द्वारा उक्त निर्माण कराया गया था। पीएनसी से एनओसी प्राप्त हो गई है। इस स्थान पर बोर्ड की बैठक में प्रस्ताव पारित होने के बाद किसी महापुरुष की मूर्ति लगाई जाएगी। जबकि पीएनसी के सेक्टर इंचार्ज अशोक कुशवाहा का कहना है कि 2016-17 में हाइवे हैंड ओवर होने के बाद 2017-18 में ही उक्त निर्माण करवाया गया है। हमारी तरफ से नगर पंचायत को किसी प्रकार का नुकसान नहीं करने, सिर्फ सुंदरीकरण करने के लिए एनओसी दी गई है। योगी  सरकार अपराधियों पर कड़ी करवाई करनी चाहिए।

सड़क दुर्घटना : खुशियां बदली मातम में, नोयडा मे किसान नरेश पाल शाक्य कि सड़क दुर्घटना में मृत्यु !

सड़क दुर्घटना : खुशियां बदली मातम में, नोयडा मे किसान नरेश पाल शाक्य कि सड़क दुर्घटना में मृत्यु !

सड़क दुर्घटना :- नरेश पाल शाक्य (38) पुत्र नन्ने लाल निवासी यमुना खादर मयूर विहार का दिल्ली कल सड़क दुर्घटना में मारे गए | नरेश पाल अपने भतीजे राम रत्न पाल शाक्य (27) के साथ बाइक पर अपनी भांजी की शादी के कार्ड रीतेदारो को बाटने जा रहे थे |  तभी पीछे से आती हुई कार वॉक्सवैगन पॉलो उनकी बाइक पर जोरदार टक्कर मारी और नरेश पाल की घटना स्टाल पर ही मौत हो गयी जबकि उनका भतीजे को गंभीर हालत में पास के हॉस्पिटल में भर्ती कर दिया गया | और मौके से कार चालक फरार हो गया जिसका गाड़ी नंबर UP15AU 1104 है | ये घटना चार मूर्ति के पास सी. एन. जी. पंप नॉएडा तकरीवन शाम 4 बजे की है | F.I.R. थाना फेज ३ , सेक्टर 71 नॉएडा में रात्रि ११ बजे दर्ज की गयी है |

नरेश पाल एक जुग्गी झोपड़ी में रहने वाले तथा दुसरो की जमीन पर खेती करने वाला एक साधारण सा किसान है जो की अपने पुरे परिवार का खेती करके भरण पोषण करता था | इनके तीन छोटे छोटे बच्चे जो सभी नाबलिकऔर  एक पत्नी  जो इन पर ही आश्रित थे |
ऐडवोकेट ओमकार सिंह कुशवाहा जी ने इस दुर्घटना का संज्ञान लेते हुए मृतक के परिवार को आश्वासन दिया है की आरोपी को सजा ज़रूर दिलवाई जाएगी और परिवार को इन्साफ मिलेगा | 

285 करोड़ रुपए की संपत्ति के लिए मृत मां को जिंदा बताया, पति-पत्नी और बेटा गिरफ्तार

नोएडा. मुंबई में रहने वाले एक व्यक्ति सुनील, पत्नी राधा और बेटे अभिषेक को नोएडा पुलिस ने गिरफ्तार किया गया है। आरोपी के भाई ने धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई थी। यह भी कहा था आरोपी ने 285 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी के लिए दस्तावेजों में मृत मां को जिंदा बता दिया। तीनों आरोपियों को 15 दिसंबर को मुंबई के पवई स्थित हीरानंदानी गार्डन से अरेस्ट किया गया था।

विजय गुप्ता ने नोएडा के सेक्टर-20 में अपने बड़े भाई सुनील, भाभी, उनके दो बेटों और पांच अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। केस पांच साल पुराना है।

थाना प्रभारी मनोज कुमार पंत के मुताबिक- “मां के निधन के बाद सुनील गुप्ता ने फर्जी दस्तावेज बनवाए, जिसमें उन्हें (मां) जिंदा दिखाया गया। इसके बाद सुनील ने धोखे से प्रॉपर्टी को अपने और परिवार के नाम करा लिया। इसके चलते शिकायतकर्ता को 285 करोड़ का नुकसान हुआ।”

सुनील की मां कमलेश रानी का निधन 7 मार्च 2011 को हो गया था। उनकी संपत्ति 285 करोड़ रुपए की है जिसमें मुंबई में एक मोमबत्ती बनाने की फैक्ट्री भी शामिल है। फैक्ट्री का एक ऑफिस नोएडा में भी है।

कमलेश रानी ने अपनी वसीयत में लिखा था कि मरने के बाद उनके बेटों में यह जायदाद बांट दी जाए। विजय गुप्ता ने जिला कोर्ट में अपने बड़े भाई पर आरोप लगाया कि उसने गलत दस्तावेज बनवाए और कंपनी पर कब्जा कर लिया, जबकि कंपनी में वह भी पार्टनर था

अफसर के मुताबिक- “सुनील ने मुंबई स्थित रजिस्ट्रार ऑफिस में पेश दस्तावेजों में बताया कि मोमबत्ती बनाने वाली कंपनी उसे मां से तोहफे के रूप में मिली है। इसकी वसीयत (गिफ्ट डीड) भी कराई जा चुकी है। नियम के मुताबिक गिफ्ट डीड किसी मृत व्यक्ति के नाम से नहीं बनवाई जा सकती। डीड में मृत मां को जिंदा बताया गया था।’

 

बिहार में हो रहे लगातार हत्याओं के खिलाफ राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने अपनी मनसा किया साफ़

बिहार | जिस तरह से बिहार में आये दिन ह्त्याए हो रही है और बिहार सरकार के निरंकुसतावो को देखते हुए आज १३ अक्टूबर २०१८ को युवा लोक समता पार्टी ने बिहार में अपराधों को कम करने के लिए और बिहार सरकार के ध्यान को लगातार हो रहे अपराधों की तरफ आकर्षित करने के लिए बिहार के गर्दनीबाग में महा धरना का आयोजन किया | इस महा धरने का मुख्य अजेंडा बिहार में हो रहे लगातार अपराधों को खत्म करने के लिए बिहार सरकार को अपराध के प्रति उनके दायित्वों को याद दिलाना है तो व्ही राष्ट्रीय लोक समता पार्टी अपराधियों को लेकर के अपनी मनसा साफ़ कर दिया है | इस महा धरना की अद्ध्यक्षता युवा राष्ट्रीय लोक समता पार्टी बिहार प्रदेश अद्ध्यक्ष हिमांशु पटेल और धरने की संचालन युवा राष्ट्रीय लोक समता पार्टी बिहार प्रदेश प्रधान महासचिव अरुण कुशवाहा ने किया | इस धरने में बहुत ही ज्यादे संख्या में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के कार्यकर्ता और पार्टी को सपोर्ट करते हुए क्षेत्रीय नागरिक भी उपस्थित रहे |

gopalganj news

बताते चले की पिछले दिनों हुए बक्सर में विक्रम मौर्य और खूटी यादव हत्या कांड के बाद गोपालगंज जिला में इंटर के छात्रा प्रियंका कुशवाहा को जान मारने के नियत से उसके शरीर पर चाकू से ताबड़तोड़ हमला किया गया। ऐसे हत्याएं बिहार में अब आम बात हो गयी है l और सबसे बड़ी बात ये है की अभी तक बिहार सरकार की तरफ से इन हो रही हत्याओं के खिलाफ कोई कठोर कार्यवाही नहीं हो रही तो व्ही पुलिस प्रसासन भी अपराधियों के सामने बेवस नजर आ रही है |

लेखक – कृष्ण मुरारी सिंह

Translate »