Day: May 7, 2020

आज मनेगी 2583 वीं बुद्ध जयंती, गौतम बुद्ध के जयंती पर आप सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई और बहुत-बहुत मंगलकामनाएं।

सम्मानित साथियों जैसा कि हम सब जानते हैं आज वैशाख पूर्णिमा 2020 (बुद्ध पूर्णिमा) का दिन (7मई 2020, दिन गुरुवार) हम सब के लिए शान्ति, प्रज्ञा, समानता, भाईचारा, मध्य मार्ग, आष्टांगिक मार्ग….आदि को याद दिलाने के कारण अपना अद्वितीय स्थान रखता है क्योंकि…..

इसी दिन महाकारुणिक, शान्ति मसीहा, दुनियाँ के प्रथम वैज्ञानिक विश्वगुरु तथागत सम्यक सम्बुध्द ने सिद्धार्थ के रूप में कपिलवस्तु के शाक्य सिंह राजा शुद्धोदन के यहाँ माता महामाया की कोख से जन्म लिया था l
इसी दिन युवराज सिद्धार्थ ज्ञान /प्रज्ञा प्राप्त कर बुद्ध बने थे और धम्म का अविष्कार किया l
आज ही के दिन तथागत सम्यक सम्बुध्द कुशीनगर में महापरिनिर्वाण को भी प्राप्त हुए थे l

उपरोक्त कारणों से विश्व भर में यह दिन त्रिविधि बुद्ध पूर्णिमा के साथ ही प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है
इसलिए आप सभी सम्मानित भारतीय नागरिकों से विनम्र निवेदन है कि इस 2583वीं त्रिविधि बुद्ध पूर्णिमा /प्रकाश पर्व मनाने की इस पहल में अपनी अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर भारतीयता की मिशाल पेश करें l

तिथि – 07 मई 2020,
समय – शाम 07:00 -08:00 बजे
सामान – दीपक, धूप, अगरवत्ती मोमबत्ती आदि आवश्यकतानुसार,

विधि :- तथागत सम्यक सम्बुद्ध के सम्मुख 5 दीपक/मोमबत्ती जलाएं, एवं सुगंध के लिए धूप या अगरवत्ती का प्रयोग करते हुए सम्पूर्ण घर को आवश्यकतानुसार दीपक या मोमबत्ती आदि से रोशन करें l
तत्पश्चात…

नमो तस्स भगवतो अरहतो सम्मासम्बुद्धस्स !!! – 3 बार

त्रिशरण पाठ

बुद्ध शरणम् गच्छामि !
धम्म शरणम् गच्छामि !
संघ शरणम गच्छामि !

द्वितीयम्पी बुद्ध शरणम् गच्छामि !
द्वितीयम्पी धम्म शरणम् गच्छामि !
द्वितीयम्पी संघ शरणम गच्छामि !

ततियम्पी बुद्ध शरणम् गच्छामि !
ततियम्पी धम्म शरणम् गच्छामि !
ततियम्पी संघ शरणम गच्छामि !

पंचशील पाठ….

▪पाणातिपाता वेरमणी सिख्खापद्म समादियामि !
▪अदिन्नादाना वेरमणी सिख्खापद्मसमादियामि !
▪कामेसु मिच्छाचारा वेरमणी सिख्खा पद्म समादियामि !
▪मूसावादा वेरमणी सिख्खापद्म समादियामि !
▪सुरा मेरय मज्ज पमादिठ्ठाना वेरमणी सिख्खा पद्म समादियामि !

साधू ! साधू ! साधू !

नोट -: कोरोना जैसी महामारी के चलते शारीरिक दूरी का ध्यान रखते हुए भीड़ भाड़ का बचाव करते हुए त्रिविधि बुद्ध पूर्णिमा को पूरे मनोयोग से घर पर ही मनाएं व उनकी कहानी और शिक्षाओं, सिद्धांतों को बच्चों को बताएँ एवं विशेषत: खीर बनबायें तथा हो सके तो लॉक डाऊन का पालन करते हुए खीर दान करें l

विनीत :

MFG FOUNDATION
Empowering Youth

Translate »