Day: April 11, 2020

Casinos Advice And Newest Updates

Will do you discover that anyone can like current on line casino match post titles web based ?.Properly, to supply you with a better concept, underneath can be quick tips or perhaps some reasons why over the internet gambling on can be a better option for all those game lovers. Of our own verdict, the ideal position to set up your genuine cash mobile phone betting place app practical knowledge definitely will be around the internets gaming restaurant internet site itself. (more…)

ज्योतिबा फुले ने क्यों बनाया था सत्य शोधक समाज

महामना ज्योतिबा फुले ने भारतीय समाज को आधुनिक बनाने के अपने आंदोलन को आगे बढ़ाने हेतु 24 सितंबर, 1873 को ‘सत्य शोधक समाज’ की नींव रखी. सामाजिक न्याय की दिशा में ये एक बड़ा कदम था.

जाति प्रथा, पुरोहितवाद, स्त्री-पुरुष असमानता और अंधविश्वास के साथ समाज में व्याप्त आर्थिक-सामाजिक एवं सांस्कृतिक भ्रष्टाचार के विरुद्ध सामाजिक परिवर्तन की जरूरत भारत में शताब्दियों से रही है. इस लक्ष्य को लेकर आधुनिक युग में सार्थक, सशक्त और काफी हद तक सफल आंदोलन चलाने का श्रेय प्रथमत: ज्योतिराव फुले को ही जाता है. उन्हें ज्योतिबा फुले या ज्योतिबा फुले नाम से भी जाना जाता है. व्यक्ति की स्वतंत्रता और समानता के लिए उनके चलाए आंदोलन के कारण उन्हें आधुनिक भारत की परिकल्पना का पहला रचनाकार भी माना जाता है. ये बात महत्वपूर्ण है कि बाबा साहेब डॉ बीआर आंबेडकर ने बुद्ध और कबीर के साथ ज्योतिबा फुले को अपना गुरु माना था.

सत्य शोधक समाज की ऐतिहासिक भूमिका

ज्योतिबा फुले के इस आंदोलन में उनके द्वारा स्थापित सत्य शोधक समाज की बड़ी भूमिका थी. ज्योतिबा फुले के मरने के बाद उनकी पत्नी सावित्रीबाई फुले ने सत्य शोधक समाज के काम को आगे बढ़ाया. वर्तमान समय में समाजशास्त्री गेल ऑम्वेट और रोजालिंड ओ हैनलॉन ने इस बारे में काफी विस्तार से लिखा है, जिसकी वजह से अकादमिक जगत में भी इस की काफी चर्चा है.

यह मानकर कि जाति व्यवस्था को धार्मिक और आध्यात्मिक आधार देने वाले हिंदू धर्म से टकराए बगैर समाज में व्याप्त तरह-तरह की कुरीतियों का समाधान असंभव है, ज्योतिबा फुले ने हिंदू धर्म को सीधी चुनौती पेश की. हजारों वर्षों से मिथक एवं पुराकथाएं जनसाधारण के लिए शास्त्र का काम करती आई हैं. इसे देखते हुए फुले ने ‘गुलामगिरी’ पुस्तक के माध्यम से, लोक प्रचलित मिथकों की पड़ताल की. इसके फलस्वरूप एक ऐसी चेतना का विस्तार हुआ हुआ, जो आगे चलकर देश के विभिन्न भागों में जातिवाद विरोधी आंदोलनों की प्रेरणा बना.

महामना फुले का जीवन

ज्योतिबा फुले का जन्म एक साधारण माली परिवार में पेशवाई का गढ़ कहे जाने वाले पुणे में हुआ था. पेशवाई शासक जातीय दंभ तथा अस्पृश्यों पर अत्याचार के लिए जाने जाते थे. शूद्रों और अतिशूद्रों को जातीय उत्पीड़न से मुक्ति दिलाने के लिए फुले ने उन्हें संगठित होने और आधुनिक शिक्षा प्राप्त करने की सलाह दी. अपनी पत्नी सावित्रीबाई फुले तथा अन्य सहयोगियों की मदद से उन्होंने कई शिक्षण संस्थाओं की स्थापना की. लड़कियों का पहला स्कूल खोलने का श्रेय उन्हें ही है.

लोगों को अशिक्षा, पुरोहितशाही, जातीय भेदभाव, उत्पीड़न, भ्रष्टाचार आदि के विरुद्ध जागरूक करने हेतु जो पुस्तकें उन्होंने रचीं, उसकी लिस्ट इस प्रकार है. 1- तृतीय रत्न (नाटक, 1855), 2- छत्रपति राजा शिवाजी का पंवड़ा (1869), 3- ब्राह्मणों की चालाकी( 1869), 4- ग़ुलामगिरी(1873), 5- किसान का कोड़ा (1883), 6- सतसार अंक-1 और 2 (1885), 7- इशारा (1885), 8-अछूतों की कैफियत (1885), 9- सार्वजनिक सत्यधर्म पुस्तक (1889), 10- सत्यशोधक समाज के लिए उपयुक्त मंगलगाथाएं तथा पूजा विधि (1887), 11-अंखड़ादि काव्य रचनाएं (रचनाकाल ज्ञात नहीं).

सत्य शोधक समाज की स्थापना

समाज परिवर्तन के आंदोलन को संगठित रूप से आगे बढ़ाने हेतु उन्होंने 24 सितंबर, 1873 को ‘सत्य शोधक समाज’ की नींव रखी. उन दिनों समाज सुधार का दावा करने वाले कई संगठन काम कर रहे थे. उनमें ‘ब्रह्म समाज’ (राजा राममोहन राय), ‘प्रार्थना समाज’ (केशवचंद सेन), पुणे सार्वजनिक सभा (महादेव गोविंद रानाडे) आदि प्रमुख थे. लेकिन वे सभी द्विजों द्वारा, द्विजों की हित-सिद्धि के बनाए गए थे. उनकी कल्पना में पूरा भारतीय समाज नहीं था. वे चाहते थे कि समाज में जाति रहे, लेकिन उसका चेहरा उतना क्रूर और अमानवीय न हो. इसी क्रम में 1875 में बने आर्य समाज का नाम भी आता है, जो वेदों की ओर लौटने का बात कर रहा था.

शूद्रों-अतिशूद्रों की शिक्षा को लेकर राजा राममोहन राय और केशवचंद सेन दोनों के विचार थे कि पहले समाज के उच्च वर्गों में शिक्षा के न्यूनतम स्तर को प्राप्त कर लिया जाए. ऊपर के स्तर पर शिक्षा अनुपात बढ़ेगा तो उसका अनुकूल प्रभाव निचले स्तर पर भी देखने को मिलेगा. अर्थशास्त्र की भाषा में इसे ‘रिसाव का सिद्धांत’ या ट्रिकल डाउन थ्योरी कहते हैं. इसके अनुसार, ऊपर के वर्गों की समृद्धि धीरे-धीरे रिसकर समाज के निचले वर्गों तक पहुंचती रहती है. ऐसा सोचने वाले ये भूल जाते थे कि प्राचीन काल में जब हर द्विज बच्चे को अनिवार्यतः गुरुकुल जाना पड़ता था, तब ब्राह्मणों का शिक्षानुपात लगभग शत-प्रतिशत होता था. वहीं, निचली जातियों का शिक्षानुपात शून्य पर टिका रहता था. यानी शिक्षा के क्षेत्र में ट्रिकल डाउन थ्योरी भारत जैसे देश में सफल नहीं हो सकती क्योंकि ये जन्म से ही निर्धारित हो जाता था कि कौन पढ़ेगा और कौन श्रम करेगा और कौन शिक्षा प्राप्त करने वालों की सेवा करेगा.

सत्य शोधक समाज के उद्देश्य

सत्य शोधक समाज के प्रमुख उद्देश्य थे- शूद्रों-अतिशूद्रों को पुजारी, पुरोहित, सूदखोर आदि की सामाजिक-सांस्कृतिक दासता से मुक्ति दिलाना, धार्मिक-सांस्कृतिक कार्यों में पुरोहितों की अनिवार्यता को खत्म करना, शूद्रों-अतिशूद्रों को शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करना, ताकि वे उन धर्मग्रंथों को स्वयं पढ़-समझ सकें, जिन्हें उनके शोषण के लिए ही रचा गया है, सामूहिक हितों की प्राप्ति के लिए उनमें एकजुटता का भाव पैदा करना, धार्मिक एवं जाति-आधारित उत्पीड़न से मुक्ति दिलाना, पढ़े-लिखे शूद्रातिशूद्र युवाओं के लिए प्रशासनिक क्षेत्र में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना आदि. कुल मिलाकर ये सामाजिक परिवर्तन के घोषणापत्र को लागू करने का कार्यक्रम था.

सत्य शोधक समाज का फैलाव

शूद्रों और अतिशूद्रों का ज्योतिबा फुले पर भरोसा था. इसकी सबसे बड़ी वजह शिक्षा के क्षेत्र में किए गए उनके काम थे. इसलिए सत्य शोधक समाज को उन्होंने हाथों-हाथ लिया. कुछ ही वर्षों में उसकी शाखाएं मुंबई और पुणे के शहरी, कस्बाई एवं ग्रामीण क्षेत्रों में खुलने लगीं. एक दशक के भीतर वह संपूर्ण महाराष्ट्र में पैठ जमा चुका था. समाज की सदस्यता सभी के लिए खुली थी, फिर भी मांग, महार, मातंग, कुनबी, माली जैसी अस्पृश्य एवं अतिपिछड़ी जातियां तेजी से उससे जुड़ने लगीं.

लोगों ने शादी-विवाह, नामकरण आदि अवसरों पर पुरोहितों को बुलाना छोड़ दिया. इससे ब्राह्मण पुजारियों ने निचली जातियों को यह कहकर भड़काना शुरू कर दिया कि बिना पुरोहित के उनकी प्रार्थनाएं ईश्वर तक नहीं पहुंच पाएंगी. घबराए हुए लोग फुले के पास गए. फुले ने उन्हें समझाया कि तमिल, बंगाली, कन्नड़ आदि गैर-संस्कृत भाषी लोगों की प्रार्थनाएं ईश्वर तक पहुंच सकती हैं, तो उनकी अपनी भाषा में की गई प्रार्थना को ईश्वर भला कैसे अनसुना कर सकता है! उन्होंने कहा कि जहां बहुत जरूरी हो, वहां अपनी ही जाति के अनुभवी व्यक्ति को पुरोहित की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है. स्वयं फुले ने कई अवसर पर पुरोहिताई की.

बिना पुरोहित के विवाह-संस्कार

इस संदर्भ में एक प्रसंग बेहद दिलचस्प है. एक परिवार में शादी होने वाली थी. पुरोहितों ने घर आकर डराया कि बिना ब्राह्मण एवं संस्कृत मंत्रों के हुआ विवाह ईश्वर की दृष्टि में अशुभ माना जाएगा. उसके अत्यंत बुरे परिणाम होंगे. गृहिणी सावित्रीबाई फुले को जानती थी. फुले को पता चला तो उन्होंने सत्य शोधक समाज के बैनर तले विवाह संपन्न कराने का ऐलान कर दिया. सैकड़ों सदस्यों की उपस्थिति में वह विवाह खुशी-खुशी संपन्न हुआ.

एक अन्य घटना में पुरोहितों ने घुड़सवार भेजकर दूल्हे के पिता को धमकी दी. लोगों को यह कहकर भड़काया कि फुले उन्हें ईसाई बनान चाहते हैं. लेकिन फुले इन धमकियों से कहां डरने वाले थे? अप्रिय घटना से बचने के लिए उन्होंने प्रशासन से मदद मांगी. पुलिस की निगरानी में वह विवाह सफलतापूर्वक संपन्न हो सका.

लोगों तक बातें पहुंचाने का निराला अंदाज

ज्योतिराव अपना संदेश लोगों तक कैसे पहुंचाते थे, इसका एक रोचक किस्सा रोजलिंड ओ हेनलान ने अपनी पुस्तक में दिया है. एक बार फुले अपने मित्र ज्ञानोबा सासने के साथ पुणे के बाहर स्थित एक बगीचे के भ्रमण के लिए गए. वहां एक कुआं था, जिससे उस बगीचे की सिंचाई होती थी. जैसे ही दोपहर का अवकाश हुआ, सभी मजदूर खाना खाने बैठ गए. यह देख फुले कुएं तक पहुंचे और कुएं के डोल को चलाने लगे. काम करते-करते उन्होंने गाना भी शुरू कर दिया. मजदूर उन्हें देखकर हंसने लगे. फुले ने उन्हें समझाया, ‘इसमें हंसने जैसा कुछ नहीं है? मजदूर लोग काम करते हुए अकसर गाते-बजाते हैं. केवल मेहनत से जी चुराने वाले लोग ही फुर्सत के समय वाद्ययंत्रों का शौक फरमाते हैं. असली मेहनतकश जैसा काम करता है, वैसा ही अपना संगीत गढ़ लेता है.’

सत्य शोधक समाज के माध्यम से फुले ने शूद्रों और अतिशूद्रों को अपने विकास और मान-प्रतिष्ठा अर्जित करने का जो रास्ता करीब 146 वर्ष पहले दिखाया था, सामाजिक न्याय के संदर्भ में आज भी वह उतना ही जरूरी और प्रासंगिक है.

(साहित्य की विभिन्न विधाओं में लेखन करने वाले ओमप्रकाश कश्यप की लगभग 35 किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं.यह लेख उनका निजी विचार है.)

Substantial Mail Buy Brides – Why They are really Becoming Popular amonst the Foreign Wives or girlfriends

There are a lot of those who find themselves very eager to find the right person when it comes to matrimony as well as if that they consider real mail buy brides as the best alternatives for them, they will still think apprehensive about meeting all of them. There are several reasons why there are those that hesitate to approach these brides however they should understand there exists still some good qualities that they can http://hbs.uin-malang.ac.id/index.php/2-uncategorised are able to get from these women. It is observed that a large number of couples have come from a foreign country and even though they are not really originally from that country, that they get each of the culture and the experience that they can need if they get married through mail purchase brides. This is due to these birdes-to-be have approached a few overseas men and if the person is not true American indian or an Asian, nevertheless he contains managed to marry a white-colored woman from that country that is certainly how they managed to maintain a good family life and they currently have managed to experience their lives to the maximum. So there are several good qualities they can get from these brides and here are some of all of them:

No prior concerns: One of the major reasons why there are some hesitations in springing up this kind of birdes-to-be is that at this time there is no prior details about these brides to be. They do not have any idea about anyone who they are going to meet or perhaps the details about the family existence that they are going to lead. All they may have is the information that they got from the different internet sites and the family members. Therefore the first thing that the mail order bride-to-be should do should be to make sure that there may be some kind of a reservation regarding her on the part of the groom or the family members. In case there is absolutely no such information, then your sweetheart can move forward further and can contact the bridegroom or the relatives if they may have any relevant information about her.

Residency: One other heybride.org essential quality that’s needed is by proper mail purchase brides is usually their capability to stay economically independent after they tie the knot with all the person in the other area. There are many web sites that will help the brides to stay financially independent by giving them with a few financial back up. However , you can find another trouble associated with these kinds of brides exactly who stay financially dependent on the person from the other aspect. They can become emotionally determined by the person which could be very harmful for both the persons. So it is suggested that the actual mail order brides should go through several counseling to grasp how to stay clear of the psychological dependence.

No children: The fourth top quality that is required by simply real postal mail order brides to be is the deficiency of any kids. This is because wedding ceremony will start from a fresh perspective and there will be no interference regarding the schedule of the kids. There will be zero interference relating to education, overall health, or any different issues that ought to be addressed. Therefore the new star of the event will get the chance to focus on creating her private household and on establishing her own standard of living and expectations. This can really be an excellent opportunity for the modern bride.

Simply no competition: Another important quality that real ship order brides work and wish to achieve is definitely their ability to live an isolated existence. Unlike the foreign brides, just who come with all the expectations from other parents, and other close family, the single males coming to India are kept without having other anticipations from anyone. Therefore they just do not have to fulfill any kind of cultural obligations to anybody. They will also live an remote life and can even live on their own. This can be a amazing top quality in their life exactly where they can benefit from their own some pursue their very own interests with no kind of limitation.

The above mentioned are the most common qualities that the single men as well as foreign star of the event should have to become a perfect Russian bride. You may also combine each of the qualities for the ideal bride. You simply need to find a reputable and honest Russian spouse and you can be a perfect Russian bride by choosing an ideal real ship order star of the wedding agency that can help you find an associate and guide you through the Russian your life.

Muscle Supplements Over the internet

If you’re looking for muscle supplements, then you quite possibly already know about the many different types of supplements readily available today. From necessary protein powders to creatine and whey powders, you will find a product in existence that will work to suit your needs. There are also various supplements that can be purchased on the internet from several retailers. You can even find a few products that are manufactured by your preferred nutrition dietary supplement company, which can be really practical.

Muscle supplements can help you build more muscle tissue faster than you can when you did it normally. Supplements are created to make the complete process faster and easier. They help you to get faster recovery period as well as better muscle progress. It can also assist you to stay in better shape for a longer time.

There are numerous advantages to taking titan gel fake vs original muscle supplements. The main advantage is that they provide you with more strength, which you will need when aiming to gain muscle. Because you can build a lot muscle quicker this helps you reach your goal quicker and gives you a boost of energy throughout the training stage. This energy will keep you heading during your workout routines.

At the time you take muscle mass supplements, an individual worry about putting on the weight. There’s no explanation to be concerned with gaining any weight as the ingredients inside the supplement typically add fat. They will rather make you look and feel fuller, which will speed up excess fat loss.

Muscle products are also a great way to get in better shape. They not only allow you to feel better about your self but also improve your system’s ability to burn fat. Since you happen to be getting better workout sessions, certainly burn more calories and body fat while you’re doing exercises. With all of these types of benefits, taking a muscle dietary supplement seems like the!

Regardless of what type of muscle mass supplements you are thinking about, you should consider obtaining them via the internet if possible. Since they’re readily available through the net, you can buy all of them anywhere, which include at work or perhaps on your meal break. No more do you have to haul around another bottle of proteins powder or perhaps protein protein shake to get the extra protein you need to bulk up and build muscular tissues.

One more to buy your over the internet muscle supplements is the ease of it. They have a wide variety of distinctive brands, every with its have set of features and rewards. You can even obtain discount coupons when one buys online. So , if you want to try an individual brand, or even two brands to see how they do, all you have to perform is click the site’s connection to their website and buy a certain dietary supplement.

Great advantage of muscle tissue supplements is the fact that there’s no mixing and matching of different nutritional supplements. to get the appropriate combination. You could get them put together and matched up to get the best possible results.

Muscle nutritional supplements are important to assist you build muscle, if you just want to create a few excess weight, or you wish to gain muscle tissue and explanation. You can create your time when it comes to choosing which supplements to work with, but if you take a muscle mass supplement you can reap pretty much all of this benefits.

Translate »