Day: June 29, 2019

टीम इंडिया की नारंगी जर्सी लॉन्च, विश्व कप में नए रंग में दिखेंगे ‘मैन इन ब्लू’ इंग्लैंड के खिलाफ रविवार को नारंगी जर्सी पहनकर खेलेगी टीम इंडिया ।

टीम इंडिया की नारंगी जर्सी लॉन्च, विश्व कप में नए रंग में दिखेंगे ‘मैन इन ब्लू’ इंग्लैंड के खिलाफ रविवार को नारंगी जर्सी पहनकर खेलेगी टीम इंडिया।

आखिरकार चर्चाओं का दौर खत्म हुआ। विश्व कप में टीम इंडिया के बहुचर्चित ‘जर्सी विवाद’ से पर्दा उठता नजर आ रहा है। काफी वक्त से टीम की दूसरी जर्सी को लेकर अटकलें लगाई जा रही थीं कि ये भगवा रंग की होगी। आखिरकार लंबे विवाद और कयासों के बीच शुक्रवार को बीसीसीआई की ऑफिशियल किट स्पॉन्सर नाइकी ने नई जर्सी लॉन्च कर दी।

भारत और इंग्लैंड रविवार 30 जून को बर्मिंघम में आमने-सामने होंगे। इस मुकाबले के लिए भारतीय टीम अपनी नियमित नीली जर्सी में नहीं दिखेगी। इंग्लैंड और भारत, दोनों ही वन-डे में नीले रंग की जर्सी पहनते हैं। इस लिहाज से भारतीय टीम को 30 जून वाले मैच के लिए दूसरी जर्सी पहनकर उतरना होगा।

नाइकी ने इस जर्सी को लांच करते हुए कहा कि भारतीय टीम की अवे किट नई पीढ़ी के हार नहीं मानने के जज्बे से प्रेरित है। हाल ही में टीम इंडिया की नई जर्सी लांच की गई थी और ये नई जर्सी भी उसी तरह से आधुनिक जरूरतों को पूरा करती है। नई जर्सी में भी ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जिससे खिलाड़ियों को कम पसीना आए।

इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया कौन सी जर्सी पहनेगी इसे लेकर राजनीतिक दलों की तरफ से भी काफी कुछ कहा जा रहा था। कई दलों की तरफ से तिरंगे के अपमान की भी बात कही गई थी। कांग्रेस और सपा ने तो इसे खेल का भगवाकरण बता दिया था।

आपको बता दें कि टीम इंडिया इस वक्त विश्व कप में काफी अच्छी स्थिति में है और अंकतालिका में 11 अंक के साथ दूसरे स्थान पर है। भारतीय टीम को सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की करने के लिए सिर्फ एक मैच में जीत दर्ज करने की जरूरत है।

कैलाश विजयवर्गीय ने अफसर पर ताना था जूता, अब बेटे ने चलाया बल्ला।

कैलाश विजयवर्गीय ने अफसर पर ताना था जूता, अब बेटे ने चलाया बल्ला।

नगर निगम अधिकारी की बल्ले से पिटाई करने वाले भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश की जमानत याचिका शुक्रवार को भोपाल की विशेष अदालत में दायर की गई। भाजपा के वरिष्ठ नेता विश्वास सारंग वकीलों के साथ कोर्ट पहुंचे। मामले में विशेष न्यायाधीश सुरेश सिंह ने इंदौर से केस डायरी बुलाए जाने के आदेश दिए हैं।शनिवार को केस डायरी आने के बाद ही आगे की सुनवाई होगी।

इसके पहले गुरुवार को उनकी तरफ से अपर सत्र न्यायालय में जमानत अपील दायर की गई थी। कोर्ट ने यह कहते हुए अपील खारिज कर दी कि मंत्री, विधायकों से जुुड़े आपराधिक मामलों की सुनवाई के लिए भोपाल में एक कोर्ट निर्धारित कर दी गई। इस कोर्ट को जमानत अर्जी पर सुनवाई का अधिकार नहीं है।

सीएम कमलनाथ बोले- यह बड़े दुख की बात है। भाजपा नेताओं के ऐसे काम को पूरा प्रदेश देख रहा है। इस मामले में अब पुलिस को साबित करना है कि उसकी कार्रवाई सही है।

कमलनाथ, मुख्यमंत्री
आकाश की ओर से पेेश जमानत अर्जी में धार के पूर्व विधायक व कांग्रेेस नेता बालमुकुंद सिंह गौतम को इंदौर कोर्ट से दी गई जमानत का हवाला दिया गया। अर्जी में लिखा कि उन्हें भी जमानत इंदौर से ही मिली। इस मामले में इंदौर की कोर्ट सुनवाई कर सकती है। लेकिन आकाश की दलील को कोर्ट द्वारा यह कहते हुए खारिज कर दिया कि गौतम को जमानत मप्र हाई कोर्ट के 26 फरवरी 2018 को जारी हुए नोटिफिकेशन से पहले दी गई थी इस वजह से आकाश की अर्जी को सुुना नहीं जा सकता।
Translate »