Day: June 24, 2019

राष्ट्रद्रोह : रायबरेली- जौनपुर हाईवे पर बने अशोक चक्र को पंचायत ने तुड़वाया और सरकार सो रही है। 

राष्ट्रद्रोह : रायबरेली- जौनपुर हाईवे पर बने अशोक चक्र को पंचायत ने तुड़वाया और सरकार सो रही है।

मछलीशहर। रायबेरली- जौनपुर हाईवे पर सुंदरीकरण के लिए छह वर्ष पूर्व कस्बे के चौराहे पर लगाएं गए अशोक चक्र को नगर पंचायत ने तोड़वा दिया। नगर पंचायत अनुमति लेकर तोड़ने का दावा कर रहा है जबकि हाईवे अर्थारिटी का कहना है कि सुंदरीकरण की अनुमति दी गई थी, तोड़ने की नहीं। इसके खिलाफ वह प्रशासन पत्र लिखा जाएगा।
नगर के चुंगी चौराहे और मुंगराबादशाहपुर तिराहे पर बलुआ पत्थर से सुंदरीकरण किया गया था। चुंगी चौराहे पर पांच फीट ऊंची व 20 फीट वर्गाकार चहारदीवारी मध्य में दस फिट की ऊंचे अशोक चक्र का निर्माण कराया गया था। इसी तरह मुंगराबादशाहपुर तिराहे पर पत्थर से ही एक लाट का निर्माण किया गया था। इन दोनों निर्माण स्थल पर नगर पंचायत अब छह-छह लाख की लागत से नए पत्थर लगाकर नवनिर्माण करवाने जा रहा है। इसके लिए हाईवे अथारिटी से अनापत्ति प्रमाण पत्र नगर पंचायत को प्राप्त हो गया है। रविवार को उक्त निर्माण ध्वस्त करने का काम शुरू हो गया है। नगर वासियों का कहना है कि अभी दो तीन वर्ष पूर्व ही लाखों रुपये की लागत से हुए निर्माण को तोड़वाने के बजाय टाइल्स और पेंट से सुंदर बनाकर नव निर्माण में खर्च होने वाले सरकारी धन को बचाया जा सकता था। इस धनराशि से दूसरा विकास का कार्य किया जा सकता था। इस बाबत नगर के अधिशासी अधिकारी धीरज सिंह का कहना है कि हाइवे निर्माण के समय पीएनसी द्वारा उक्त निर्माण कराया गया था। पीएनसी से एनओसी प्राप्त हो गई है। इस स्थान पर बोर्ड की बैठक में प्रस्ताव पारित होने के बाद किसी महापुरुष की मूर्ति लगाई जाएगी। जबकि पीएनसी के सेक्टर इंचार्ज अशोक कुशवाहा का कहना है कि 2016-17 में हाइवे हैंड ओवर होने के बाद 2017-18 में ही उक्त निर्माण करवाया गया है। हमारी तरफ से नगर पंचायत को किसी प्रकार का नुकसान नहीं करने, सिर्फ सुंदरीकरण करने के लिए एनओसी दी गई है। योगी  सरकार अपराधियों पर कड़ी करवाई करनी चाहिए।

इंडोनेशिया में 7.5 तीव्रता का भूकंप, ऑस्ट्रेलिया में खाली कराए गए शहर

इंडोनेशिया में 7.5 तीव्रता का भूकंप, ऑस्ट्रेलिया में खाली कराए गए शहर

पूर्वी तिमोर में 7.5 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया. हालांकि इसे सुनामी के खतरे से बाहर बताया जा रहा है. भूकंप का केंद्र बांदा सागर की 214 किलोमीटर की गहराई में था.

क बार फिर इंडोनेशिया भूकंप के झटके से थरथरा गया. सोमवार को पूर्वी तिमोर में 7.3 तीव्रता का भूकंप आया. भूकंप का केंद्र बांदा सागर की 214 किलोमीटर की गहराई में था, हालांकि वर्तमान में सुनामी की कोई चेतावनी नहीं है. भूकंप के कारण ऑस्ट्रेलिया के कई शहरों को भी खाली करा लिया गया है.

भूकंप के कारण पूर्वी तिमोर में कई झटके महसूस किए गए. रॉयटर्स के मुताबिक झटके लगते ही लोग अपने घरों से बाहर निकलने लगे और किसी सुरक्षित स्थान की तरफ भागने लगे. हालांकि अभी तक किसी अप्रिय घटना की कोई सूचना नहीं है.

एक चश्मदीद गवाह ने कहा: “यह बहुत बड़ा था, सभी लोग घबरा गए और आपातकालीन निकास सीढ़ियों से भागे। मैं आठवीं मंजिल पर था।”

अन्य लोगों ने डार्विन में हिलती हुई इमारतों और तालिकाओं के साथ ‘लंबे, लहराते हुए महसूस’ होने के रूप में झटके का वर्णन किया।

शुरू में भूकंप की तीव्रता 7.2 बताई गई लेकिन बाद में 7.5 आंकी गई. भूकंप का केंद्र समुद्र से 220 किमी की गहराई में था. भूकंप के केंद्र की गहराई काफी नीचे है इसलिए सुनामी के खतरे से बाहर बताया जा रहा है.

Translate »