Day: April 23, 2019

श्रीलंका में रविवार को 8 बम धमाके 215 लोगों की मौत, 450 से ज्‍यादा लोग घायल। 

श्रीलंका में रविवार को 8 बम धमाके 215 लोगों की मौत, 450 से ज्‍यादा लोग घायल।

श्रीलंका में रविवार को चर्च और फाइव स्टार होटलों को निशाना बनाकर किए गए सिलसिलेवार 8 बम धमाकों ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है।  इन धमाकों में अब तक कम से कम 215 लोगों की मौत हो गई है, जबक‍ि 450 से ज्‍यादा लोग घायल हैं।  अब तक 13आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।  सरकार ने कहा है कि ज़्यादातर धमाके आत्मघाती थे. मरने वालों में भारतीय और पाकिस्तानी समेत कुल 35 विदेशी नागरिक भी हैं।  धमाके में एक भारतीय नागरिक की मौत हो गई है। ये केरल की रहने वाली थी। हालांकि अभी तक किसी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। लेकिन इस हमले के लिए श्रीलंका की पुलिस के शक की सुई वहां के चरमपंथी इस्लामिक संगठन नैशनल तौहीद जमात (एनटीजे) पर टिकी है

कट्टरपंथी इस्लामी संगठन
एनटीजी (नैशनल तौहीद जमात) श्रीलंका का एक चरमपंथी इस्लामिक संगठन है। इसे तौहीद-ए-जमात के नाम से भी जाना जाता है। इस संगठन पर श्रीलंका में वहाबी विचारधारा को बढ़ाने का आरोप है। इस संगठन का प्रभाव श्रीलंका के पूर्वी प्रांत में ज्यादा देखा गया है। यह संगठन देश के कई हिस्सों में महिलाओं के लिए बुर्का और मस्जिदों के निर्माण के साथ शरीया कानून को आगे बढ़ाने में लगा है।

मूर्ति तोड़ बटोरी थी सुर्खियां
श्रीलंका के इस कट्टरपंथी संगठन ने साल 2014 में भगवान बुद्ध की मूर्तियों को तोड़कर सबसे ज्यादा सुर्खियां बटौरी थी। इसे लेकर श्रीलंका में कई जगह इस संगठन का विरोध भी हुआ था। करीब एक दशक पहले श्रीलंका में बौद्ध सिंहली और हिंदू तमिल के बीच तनाव की स्थिति थी. इस गृह युद्ध में करीब एक लाख लोग मारे गए. तत्कालीन प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने 2009 में एलटीटीई को खत्म कर दिया. लेकिन तब से लेकर अब तक दोनों समूहों में लगातार तनाव बना रहा है. पिछले साल फरवरी में श्रीलंका में मुस्लिम-विरोधी दंगे भी हुए थे. उस वक्त मस्जिदों पर हमले हुए थे और बदले में बौद्ध मंदिरों और सिंहलियों पर हमले किए गए

श्रीलंका के मुस्लिम काउंसिल के हिल्मे अहमद ने कहा, ‘हमारा विश्वास हिल गया है. ज्यादातर मुस्लिम किसी प्रकार की हिंसा का समर्थन नहीं करते. यहां तक कि जब वे उत्तरी क्षेत्र से निकाले गए थे और सारी परेशानियों को सहने के बावजूद भी उन्होंने हिंसा का सहारा नहीं लिया. अब सालों बाद इस तरह की हिंसक घटना हुई है। ‘हमें मुस्लिम समुदाय में विश्वास बनाए रखने के लिए हर संभव कोशिश करनी चाहिए। ”

अहमद ने कहा, ‘मुस्लिम इस डर में जी रहे हैं कि इस सीरियल ब्लास्ट के बाद मुस्लिमों के खिलाफ किसी तरह की कोई हिंसक प्रतिक्रिया न हो । उन्होंने ये भी कहा, ‘तीन साल पहले ही मैंने इस संगठन के बारे में श्रीलंका की सरकार को बताया थ।  इसलिए नहीं कि मुझे ऐसी किसी घटना की जानकारी थी बल्कि इसलिए कि तमाम सोशल मीडिया साइट्स के ज़रिए यह संगठन तनाव का माहौल पैदा करने की कोशिश कर रहा था।  हालांकि, जिस स्तर की हिंसा उसके द्वारा की गई है उसकी किसी ने उम्मीद भी नहीं की थी। ‘नाम ज़ाहिर न किए जाने की शर्त पर एक दूसरे शख्स ने बताया, ‘हम लोग डरे हुए हैं हम इस वक्त सिर्फ प्रार्थना ही कर सकते हैं. पिछले एक दशक से देश में शांति थी।  हम लोग अब फिर से किसी तरह की हिंसा नहीं चाहते। ‘

लोकसभा चुनाव के तीसरा चरण / 15 राज्यों की 117 लोकसभा सीटों पर आज (23 अप्रैल)  होगा मतदान।

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण/ 15 राज्यों की 117 लोकसभा सीटों पर आज  (23 अप्रैल) होगा मतदान।

5 राज्यों की 117 लोकसभा सीटों पर 23 अप्रैल को मतदान होगा. उत्तर प्रदेश की 10 सीटों पर 23 अप्रैल को होने वाला मतदान सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव समेत कई दिग्गज नेताओं का सियासी भाग्य तय करेगा. राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल. वेंकटेश्वर लू ने बताया कि तीसरे चरण में प्रदेश की कुल 10 लोकसभा सीटों, मुरादाबाद, रामपुर, सम्भल, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली और पीलीभीत – के लिये मंगलवार को मतदान होगा. उल्लेखनीय कि वर्ष 2014 में इनमें से सात सीटें भाजपा ने जीती थीं. मैनपुरी, बदायूं और फिरोजाबाद सीटें सपा के खाते में गयी थी.  तीसरे चरण में 95.5 लाख पुरुषों और 80.9 लाख महिलाओं समेत कुल एक करोड़ 76 लाख मतदाता कुल 120 प्रत्याशियों में से अपने प्रतिनिधि चुनेंगे.  इस चरण के लिये कुल 12,128 मतदान केन्द्र तथा 20,116 मतदेय स्थल बनाये गये हैं. तीसरे चरण में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव (मैनपुरी) के साथ—साथ आजम खां (रामपुर), उनकी प्रतिद्वंद्वी जया प्रदा, शिवपाल सिंह यादव (फिरोजाबाद), वरुण गांधी (पीलीभीत) और संतोष गंगवार (बरेली) जैसे दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर है.  मैनपुरी में अपना ‘आखिरी’ चुनाव लड़ रहे मुलायम सिंह यादव का मुकाबला भाजपा उम्मीदवार प्रेम सिंह शाक्य से है.

साल 2014 में सुलतानपुर से सांसद चुने गये वरुण गांधी इस बार पीलीभीत से भाजपा के प्रत्याशी हैं. उनका मुख्य मुकाबला गठबंधन प्रत्याशी पूर्व मंत्री हेमराज वर्मा से है. कांग्रेस ने यह सीट गठजोड़ के तहत ‘अपना दल′ को दी है, जिसने सुरेन्द्र गुप्ता को मैदान में उतारा है. बदायूं में मौजूदा सपा सांसद धर्मेन्द्र यादव का मुख्य मुकाबला राज्य के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी एवं भाजपा प्रत्याशी संघमित्रा मौर्य से है. कांग्रेस की ओर से पांच बार के सांसद पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलीम शेरवानी भी चुनाव मैदान में हैं. सम्भल में गठबंधन प्रत्याशी एवं पूर्व सांसद शफीकुर्रहमान बर्क़, भाजपा प्रत्याशी परमेश्वर लाल सैनी और कांग्रेस उम्मीदवार एवं पूर्व विधायक मेजर जगतपाल सिंह के बीच मुख्य मुकाबला है. एटा में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के बेटे एवं मौजूदा सांसद, भाजपा प्रत्याशी राजवीर सिंह को गठबंधन प्रत्याशी एवं दो बार के सांसद देवेन्द्र सिंह यादव और कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व मंत्री सूरज सिंह शाक्य चुनौती दे रहे  हैं सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे मतदान होगा

तीसरे चरण में (lok sabha election phase 3 voting) कहां और किन सीटों पर होगा चुनाव 
छत्तीसगढ़ : रायपुर, सरगुजा, जांजगीर-चंपा, कोरबा, बिलासपुर, दुर्ग
बिहार : खगड़िया, झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा
उत्तर प्रदेश : मुरादाबाद, रामपुर, संभल, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली, पीलीभीत
महाराष्ट्र : जलगांव, रावेर, जालना, औरंगाबाद, रायगढ़, पुणे, बारामती, अहमदनगर, मढ़ा, सांगली, सातारा, रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग, कोल्हापुर, हटकानांगले
असम : धुबड़ी, कोकराझार, बारपेटा, गुवाहाटी
जम्मू-कश्मीर : अनंतनाग (सिर्फ अनंतनाग जिले में वोटिंग)
कर्नाटक : चिक्कोडी, बेलगांव, बगलकोट, बीजापुर, गुलबर्गा, रायचूर, बीदर, कोप्पल, बेल्लारी, हावेरी, धारवाड़ा, उत्तर कन्नड़, दावणगेरे, शिमोगा
ओडिशा : संबलपुर, क्योंझर, ढेंकानाल, कटक, पुरी, भुवनेश्वर
बंगाल : बालुरघाट, मालदा उत्तर, मालदा दक्षिण, जंगीपुर, मुर्शिदाबाद.

Translate »