Day: April 9, 2019

बीजेपी ने जारी किया अपना घोषणा पत्र : संकल्प पत्र में किये यह प्रमुख वादे। 

बीजेपी ने जारी किया अपना घोषणा पत्र : संकल्प पत्र में किये यह प्रमुख वादे

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा का चुनावी घोषणा पत्र जारी किया गया। इसमें देश की आजादी के 75 साल पूरे होने पर फोकस करते हुए 75 संकल्पों को रखा गया है। दावा किया गया कि इसे छह करोड़ लोगों की मदद से तैयार किया गया। इसे ‘संकल्पित भारत, सशक्त भारत’ नाम दिया गया है।

Bharatiya Janata Party (BJP) manifesto

घोषणा पत्र में भाजपा के वादे

 भाजपा के प्रमुख मुद्दे : यूनिफॉर्म सिविल कोड पर भाजपा की प्रतिबद्धता बनी रहेगी। नागरिकता संशोधन विधेयक दोनों सदनों से पास कराएंगे और उसे लागू करेंगे, लेकिन किसी राज्य की संस्कृति और भाषाई पहचान को बचाएंगे। राम मंदिर के संकल्प को भी हम दोहराते हैं। हमारा प्रयत्न होगा कि राम मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण हो जाए। कश्मीर से अनुच्छेद 35-ए हटाएंगे।

  • गांव-किसान : 25 लाख करोड़ रुपए ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में हम खर्च करेंगे। किसानों की आय को हम 2022 तक दोगुना करेंगे। किसान क्रेडिट कार्ड पर मिलने वाले 1 लाख के कर्ज को पांच साल तक ब्याज मुक्ति रखेंगे। सभी किसानों के लिए पेंशन योजना शुरू करेंगे। ताकि 60 साल की उम्र के बाद उनकी सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित हो सके। आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों के लिए हम संग्रहालय बनाएंगे। पहाड़ी, आदिवासी और वर्षा-सिंचित क्षेत्रों में 20 लाख हेक्टेयर अतिरिक्त जमीन पर रसायन मुक्त जैविक खेती को प्रोत्साहित करेंगे।
  • बुनियादी सुविधा : प्रत्येक परिवार के लिए पक्का मकान, एलपीजी सिलेंडर मुहैया कराएंगे। सभी घरों का 100% विद्युतीकरण करेंगे। हाईवे दोगुने बनाएंगे। जिन रेल मार्गों पर संभव होगा 2022 तक ब्रॉड गेज में बदलेंगे। सभी रेल लाइनों का पूरी तरह विद्युतीकरण करने की कोशिश करेंगे। डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देंगे। सरकारी सेवाओं को डिजिटल बनाएंगे।
  • शिक्षा, युवा और राेजगार : भारतीय अर्थव्यवस्था को गति देने के वाले 22 क्षेत्रों की पहचान करके उनमें रोजगार के नए अवसर पैदा करेंगे। राष्ट्रीय शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान की स्थाना करेंगे। कक्षाओं में स्मार्ट क्लासेज की शुरुआत करेंगे। केंद्रीय, विधि इंजीनियरिंग, विज्ञान और प्रबंधन संस्थानों में पांच साल में 50% सीटें बढ़ाने के लिए सभी जरूरी कदम उठाएंगे। अगले पांच साल में उच्च शिक्षा के 50 उत्कृष्ठ संस्थान स्थापित करेंगे।
  • स्वास्थ्य : आयुष्मान भारत के तहत 1.25 लाख हेल्थ केयर सेंटर बनाए जाएंगे। 2022 तक 75 चिकित्सा महाविद्यालय या स्नातकोत्तर चिकित्सा महाविद्यालय स्थापित करेंगे। 2024 तक एमबीबीएस और विशेषज्ञ डॉक्टरों की संख्या दोगुनी करेंगे। कोशिश करेंगे की हर 1400 मरीजों पर एक डॉक्टर उपलब्ध हो। 2022 तक सभी बच्चों और गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण सुनिश्चित करेंगे।
  • सुरक्षा : आतंक के प्रति जीरो टॉलरेंस पॉलिसी रहेगी। भारत में होने वाली घुसपैठ को हम सख्ती से रोकेंगे।
  • महिला : सेनाओं में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है। इसे अब हर क्षेत्र में बढ़ाएंगे। संविधान संशोधन कर संसद और विधानसभाओं में महिलाओं को 33% आरक्षण देने के लिए प्रतिबद्ध हैं।
  • व्यापारी : राष्ट्रीय व्यापार आयोग बनाएंगे जो व्यापारियों और बिजनेसमैन की चिंता करेगा। दुकानदारों को 60 साल की उम्र के बाद पेंशन देंगे। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैंक और बेहतर करेंगे। निर्यात दोगुना करेंगे। उद्योंगों के लिए एकल खिड़की और अनुपालना विभाग बनाने पर काम करेंगे।

मोदी ने कहा- अब देश के सपनों को पूरा करेंगे

संकल्प पत्र की घोषणा के दौरान मोदी ने कहा, ‘‘2014 से 2019 में हमारे कार्यों में सामान्य लोगों की जो जरूरतें हैं उन्हें हमने एड्रेस किया। देश जिन सपनों के साथ चल पड़ा है। जो 1950-60 के कालखंड में होना था वो मुझे 14 से 19 में करना पड़ा। पहले हमने जरूरतों को पूरा करने के लिए योजनाएं चलाईं और अब देश के सपनों को पूरा करने के लिए काम करेंगे। गरीबी से लड़ना है तो दिल्ली में एसी में बैठे लोग गरीबी को परास्त नहीं कर सकते। मैं भी एसी में बैठता हूं इसलिए ऐसा कोई दावा नहीं कर सकता। गरीब ही गरीबी को खत्म कर सकता है।’’

शाह ने कहा- मोदी सरकार देश की अर्थव्यवस्था 11वें से 6वें नंबर पर लाई
घोषणा पत्र जारी होने से पहले अमित शाह ने कहा- 2014 से 2019 की यात्रा का जब भी इतिहास लिखा जाएगा तब यह पांच साल स्वर्ण अक्षरों में अंकित करने पड़ेंगे। इन पांच सालों में भाजपा ने एक निर्णायक सरकार देने का काम किया गया। 50 करोड़ गरीबों को उठाने के लिए काम हुआ है। मोदीजी की सरकार ने जरूरतमंदों तक गैस सिलेंडर, बिजली, घर, स्वास्थ्य जैसे बुनियादी सुविधाएं पहुंचाने का सफल प्रयास किया। देश की अर्थव्यवस्था के बारे में पूरी दुनिया को सोचना पड़े ऐसा काम मोदी सरकार ने किया है। हमारी अर्थव्यवस्था 2014 में ग्यारहवें नंबर पर थी। आज छठवें स्थान पर पहुंच गए हम और तेजी से पांचवें स्थान की तरफ बढ़ रहे हैं।

मंच पर 7 नेता, आडवाणी-जोशी नहीं
संकल्प पत्र जारी करने के मौके पर भाजपा के मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अलावा घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज, थावरचंद गहलोत और रामलाल मौजूद थे। लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी मंच पर नहीं थे। 2014 और इससे पहले लगभग हर मौकों पर इन दोनों नेताओं की मौजूदगी में ही भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए घोषणा पत्र जारी किया था।

बुधवार को ब्लैक होल की पहली फोटोग्राफिक छवि का खुलासा किया जा सकता है।

बुधवार को ब्लैक होल की पहली फोटोग्राफिक छवि का खुलासा किया जा सकता है

हमारी मिल्की वे आकाशगंगा के केंद्र में, नक्षत्र धनु और स्कॉर्पियस की सीमा के पास, एक सुपरमैसिव ब्लैक होल मौजूद है। डब्ड धनु ए * (Sagittarius A*), यह जीवनकाल का सर्व-उपभोग वाला क्षेत्र 27 मिलियन मील से अधिक की दूरी पर है और अनुमान लगाया गया है कि सूर्य के द्रव्यमान का 4 मिलियन बार प्रकाश चूसने वाला कोर है।

पृथ्वी से अपेक्षाकृत कम दूरी के कारण, “केवल” 26,000 प्रकाश-वर्ष का अलगाव, यह भी कुछ ब्लैक होल में से एक है जो पास के पदार्थ के प्रवाह को प्रभावित करते हुए देखा गया है। पहली बार 10 अप्रैल को, हम इस खगोलीय राक्षस की “छवि” रख सकते हैं।

A distant view of Sagittarius A* captured using NASA’s Chandra X-ray Observatory. (Photo: NASA)

मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी के खगोलविद टॉम मक्सलो ने 2017 में गार्डियन से कहा, “सटीक होने के लिए, हम अपनी आकाशगंगा के दिल में ब्लैक होल की सीधी तस्वीर नहीं लेने जा रहे हैं।” 

हम वास्तव में इसकी छाया की तस्वीर लेने जा रहे हैं। मिल्की वे के दिल की विकिरण की पृष्ठभूमि की चमक के खिलाफ फिसलने वाली इसकी सिल्हूट की एक छवि हो। उस तस्वीर से पहली बार एक ब्लैक होल की आकृति का पता चलेगा। ” अपने शानदार आकार के बावजूद, Sagittarius A* किसी भी एक दूरबीन को पकड़ने के लिए बड़े पैमाने पर चुनौती पेश करने के लिए हमसे काफी दूर है।

नेचर के अनुसार, इसे खींचने के लिए हबल स्पेस टेलीस्कोप से 1,000 गुना बेहतर रिज़ॉल्यूशन वाली किसी चीज़ की आवश्यकता होगी। इसके बजाय, खगोलविदों ने कुछ बड़ा बनाने का फैसला किया-बहुत बड़ा। अप्रैल 2018 में, खगोलविदों ने Sgr A * के तत्काल वातावरण का निरीक्षण करने के लिए रेडियो दूरबीनों के एक वैश्विक नेटवर्क को सिंक्रनाइज़ किया। एक साथ, काल्पनिक रोबोट चरित्र वोल्ट्रोन की तरह, उन्होंने एक घटना ग्रह क्षितिज टेलिस्कोप (ईएचटी) का निर्माण किया, जो एक आभासी ग्रह के आकार का वेधशाला है जो महान दूरी पर अभूतपूर्व विस्तार पर कब्जा करने में सक्षम है।

इंटरनेशनल रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर रेडियो एस्ट्रोनॉमी (IRAM) के एक खगोलशास्त्री माइकल ब्रेमर और एक प्रोजेक्ट के अनुसार, “दूरबीन के निर्माण के बजाय यह इतना बड़ा है कि यह संभवतः अपने स्वयं के वजन के नीचे गिर जाएगा। हमने एक विशाल दर्पण के टुकड़ों की तरह आठ वेधशालाओं को मिलाया।” इवेंट होराइज़न टेलीस्कोप के लिए प्रबंधक, उस समय कहा जाता है। “इसने हमें पृथ्वी के रूप में बड़ा होने वाला एक आभासी दूरबीन दिया – लगभग 10,000 किलोमीटर (6,200 मील) व्यास में।”

कई दिनों में, परमाणु घड़ियों की असाधारण परिशुद्धता का उपयोग करके एक-दूसरे को बंद कर दिया गया, रेडियो दूरबीनों ने Sagittarius A* पर भारी मात्रा में डेटा कैप्चर किया। 

ब्लैक होल की पहली-फ़ोटोग्राफ़िक छवि का खुलासा किया जा सकता है … (पूर्वी समय), जिसका अनुवाद शाम 6:30 IST (भारतीय मानक समय) है।

Translate »