Day: March 4, 2019

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस (National Safety Week / Day)

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस (National Safety Week / Day)

4 मार्च 1966 को राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस की स्थापना की गई। एक सप्ताह तक यह दिवस जिस जगह मनाया जाता है वहॉ उस स्थान और उसके चारोंओर की जगह की सुरक्षा जागरूकता को बढावा दिया जाता है लेकिन इस प्रकार की सुरक्षा के लिये जनता को जागरूक करना केवल हमारे परिषद की ही जिम्मेदारी नहीं है बल्कि उसमें हर एक व्यक्ति का सहयोग होना जरुरी है।

तब राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के द्धारा यह सुरक्षा दिवस प्रारम्भ किया गया और इस तरह लोग इस अभियान में सहयोग देने लगे और इस तरह लोगों अपने अधिकार एवं कर्तव्यों के बारे में जानने लगे। इससे पहले 1930 में एक जर्मन वैज्ञानिक एच. डब्ल्यू . हेनरिच ने घोषणा की “दुर्घटना तो हर किसी के साथ होती है पर यह जानबूझकर नहीं की जाती है।

तब इस दिन भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने औद्योगिक क्षेत्र में सुरक्षा के लिये प्रत्येक व्यक्ति को जागरूक करने की शुरूआत की ।उसके बाद से औद्योगिक दुर्घटनाओं की दर में कुछ कमी आई है। यह अभियान लोगों की सुरक्षा और आवश्यकताओं को ध्यान रखते हुये विशिष्ट गतिविधियों का विकास करने के लिये बनाया गया है।

Celebration

  • देश के विभिन्न हिस्सों में, स्वास्थ्य और पर्यावरण आंदोलन में सुरक्षा लाने के लिए।
  • विभिन्न स्तरों पर अलग-अलग औद्योगिक क्षेत्रों में प्रमुख खिलाड़ियों की भागीदारी प्राप्त करने के लिये।
  • आवश्यकता-आधारित गतिविधियों के विकास को बढ़ावा देना, कार्यस्थलों पर सांविधिक आवश्यकताओं और पेशेवर एस एच ई प्रबंधन प्रणालियों के साथ आत्मनिर्भरता।
  • कार्यस्थल को सुरक्षित बनाने में नियोक्ता, कर्मचारियों और उनकी ज़िम्मेदारी से संबंधित अन्य लोगों को याद दिलाने के लिए।
  • संक्षेप में, उपरोक्त उद्देश्यों कार्यस्थल में एस एच ई संस्कृति बनाने और मजबूत करने और कार्य संस्कृति के साथ एकीकृत करने के समग्र लक्ष्य का हिस्सा हैं।
  • राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस कार्यस्थल करने वाली जगह पर सुरक्षा को बढ़ावा दिया गया और पूरे भारत वर्ष में यह दिवस मनाया जाता है।

    कैसे मनाया जाता है How it’s Celebrated?

    मनुष्यों को जागरूक करने के लिये सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के दिन कई प्रकार के आयोजन करते है जैसे- अपने कार्यकर्ताओं द्धारा सुरक्षा के प्रति नये- नये कार्यक्रम शुरू किये जाते हैं,  इस अभियान से सम्बंधित लोगों को जानकारी दी जाती है, इस कार्यक्रम से सम्बंधित व्यक्तियों को पुरुस्कृत भी किया जाता है। अभियान से संबंधित पोस्टर भी लगाये जाते हैं, इस सुरक्षा अभियान का नारा भी बनाया जाता है, इसके बारे में कई जगह पर लोगों से चर्चा भी की जाती है, सुरक्षा से  संबंधित सेमिनार भी किये जाते हैं, इत्यादि ।

अब नत्‍थूलाल जैसी नहीं, कहिए मूछें हों तो विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान जैसी

अब नत्‍थूलाल जैसी नहीं, कहिए मूछें हों तो विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान जैसी

हमारे नायक वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की वापसी के बाद पूरा देश जश्न मना रहा है। अभिनंदन की बहादुरी जहां तन मन में जोश भर रही है। वहीं उनकी मूंछों का स्टाइल भी युवाओं को कायल कर रहा है। गनस्लिंगर स्टाइल में बनीं विंग कमांडर की मूंछें उनके चेहरे के रौब को और बढ़ाती हैं। युवाओं में उनकी जैसी मूंछें रखने का ट्रेंड शुरू हो गया है। जिन युवाओं ने अभिनंदन स्टाइल मूंछें बनवा ली हैं वे सोशल मीडिया पर अपनी फोटो शेयर कर रहे हैं। हमारे बीच इससे पहले भी कई नायक आए जिनसे प्रेरित होकर लोगों ने उनकी तरह दिखने की कोशिश की।

ट्विटर पर आई बाढ़
ट्विटर पर अभिनंदन की मूंछें वायरल होने के बाद देश भर के पुरुष मोटी गनस्लिंगर मूंछों के साथ अपनी तस्वीरें और पोस्ट साझा कर रहे हैं। ट्विटर यूजर रौनक जालान ने कहा कि अभिनंदन की मूंछें पूरे देश में अगला सेंसेशन बनने वाली हैं। इस बात को हल्के में न लें, क्या पता नाई आपसे पूछ बैठे, अभिनंदन कट चाहिए? यहीं नहीं, डेयरी उत्पादों की कंपनी अमूल ने अपने तरीके से सम्मान दिखाया है। अमूल ने मूंछ नहीं तो कुछ नहीं शीर्षक से एक वीडियो साझा किया। तमिल लोग लंबे समय से ऐसी मूंछें रखते आ रहे हैं। अभिनंदन भी तमिलनाडु से हैं।

Tata Motors की भारतीय बाजार में घटी बिक्री, फरवरी में बिके 57,221 वाहन

Tata Motors की भारतीय बाजार में घटी बिक्री, फरवरी में बिके 57,221 वाहन

Tata Motors (टाटा मोटर्स) ने फरवरी 2019 की सेल्स रिपोर्ट जारी कर दी है। भारतीय बाजार में Tata Motors के कुल 57,221 वाहन फरवरी 2019 में बिके हैं। कंपनी की बिक्री में इस महीने 3 फीसद की गिरावट दर्ज की गई है। इसकी तुलना अगर फरवरी 2018 से की जाए तो कंपनी के कुल 58,993 वाहन बाजार में बिके थे।

वही, पैसेंजर व्हीक्ल सेगमेंट में कंपनी की सेल्स रिपोर्ट में बढ़त देखी गई है, जहां फरवरी 2019 में Tata Motors के कुल 18,110 यूनिट्स बिके है। कॉमर्शियल व्हीक्ल सेगमेंट में कंपनी की बिक्री में 2 फीसद की बढ़त आई है। फरवरी 2018 में कंपनी के कुल 17,771 पैसेंजर व्हीक्ल बिके थे।

बात करें कॉमर्शियल व्हीकल्स की तो इस सेगमेंट में कंपनी की सेल्स रिपोर्ट में गिरावट देखी गई है। फरवरी 2019 में Tata Motors के कुल 39,111 कॉमर्शियल व्हीकल्स बिके हैं। इस सेगमेंट में कंपनी की बिक्री में 5 फीसद की गिरावट आई है। फरवरी 2018 में कंपनी के कुल 41,222 कॉमर्शियल व्हीकल्स व्हीक्ल बिके थे।

Tata Motors के कॉमर्शियल व्हीकल्स बिजनेस के प्रेसिडेंट गिरिश वाघ ने कहा,”हाई इंटरेस्ट रेट्स, एक्सेल लोड नॉर्म्स की रिवाइज, आर्थिक गतिविधियों में कमी का असर कॉमर्शियल व्हीकल्स के बाजार पर भी पड़ा है, जिसके चलते इस सेगमेंट में 5 फीसद की गिरावट आई है।”

वहीं, अगर एक्सपोर्ट (निर्यात) की बात करें तो, Tata Motors (टाटा मोटर्स) ने फरवरी 2019 में कुल 2,930 वाहनों का निर्यात किया है। निर्यात में Tata Motors (टाटा मोटर्स) की सेल्स में 39 फीसद की साल-दर-साल में गिरावट आई है। इस पर कंपनी का कहना है कि बांग्लादेश बॉर्डर पर जमाव और श्रीलंका में नए नियम के साथ राजनीतिक अस्थिरता इस गिरावट का एक बड़ा कारण है।

वीडियोकॉन लोन मामला: ICICI बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर से लगातार दूसरे दिन ईडी की पूछताछ जारी

वीडियोकॉन लोन मामला: ICICI बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर से लगातार दूसरे दिन ईडी की पूछताछ जारी

आईसीआईसीआई-वीडियोकॉन लोन मामले में बैंक की पूर्व सीईओ और एमडी चंदा कोचर लगातार दूसरे दिन प्रवर्तन निदेशालय (ई़डी) के समक्ष पेश हुई हैं। मुंबई स्थित ईडी के दफ्तर में अधिकारी उनसे पूछताछ करेंगे।

इससे पहले ईडी ने रविवार को भी चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन ग्रुप के प्रोमोटर वेणुगोपाल धूत को मुंबई ऑफिस में पूछताछ के लिए बुलाया था। अधिकारियों ने बताया कि प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत सभी के बयानों को दर्ज किया गया। ईडी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत चंदा कोचर और वेणुगोपाल धूत के घर और दफ्तर समेत कई ठिकानों पर छापेमारी कर तलाशी ली थी।

एजेंसी ने इस महीने की शुरुआत में प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर, और धूत समेत अन्य लोगों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया था। इनके खिलाफ यह मामला वीडियोकॉन समूह को दिए गए 1,875 करोड़ रुपये के लोन के दौरान बरती गई कथित अनियमितता से जुड़ा हुआ है।

ईडी के अधिकारियों ने पुलिस के साथ मिलकर शुक्रवार की सुबह छापा मारा। अधिकारियों ने बताया कि वह इस मामले में और सबूतों की तलाश कर रहे हैं।

ईडी की तरफ से मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में केस दर्ज किए जाने के पहले सीबीआई ने इस मामले में शिकायत दर्ज की थी। सीबीआई ने अपनी शिकायत में चंदा कोचर, दीपक कोचर और धूत के साथ उनकी कंपनियों, वीडियोकॉन इंटरनैशनल इलेक्ट्रॉनिक्स और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड को भी शामिल किया था।

SurgicalStrike2 पर बोले वायुसेना प्रमुख, ‘हमले में कितने लोग मारे गए, ये गिनना एयरफोर्स का काम नहीं’

SurgicalStrike2 पर बोले वायुसेना प्रमुख, ‘हमले में कितने लोग मारे गए, ये गिनना एयरफोर्स का काम नहीं’

वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने पहली बार एयरस्ट्राइक को लेकर उठ रहे सवालों को का जवाब दिया। उन्होंने कहा कि हमले में कितने लोग मारे गए ये गिनना एयरफोर्स का काम नहीं है, ये सरकार का काम है और इसका आंकड़ा सरकार ही देगी। धनोआ ने कहा कि हम ये देखते हैं कि जो टारगेट हमें दिया गया वो हिट हुआ या नहीं। विंग कमांडर अभिनंदन को लेकर धनोआ ने कहा कि मेडिकल फिटनेस सर्टिफिकेट के बाद ही वे विमान उड़ा पाएंगे। एयरफोर्स चीफ कोयम्बटूर में पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे।

इस दौरान पाकिस्तान के किसे नुकसान न होने के दावे को लेकर पूछे गए सवाल पर एयरफोर्स चीफ ने कहा, ‘विदेश मंत्रालय ने बता दिया कि निशाना क्या था। अगर हम (एयरफोर्स) एक लक्ष्य को निशाना बनाने की योजना बनाते हैं तो उसे पूरा भी करते हैं। वरना वे (पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान) जवाब क्यों देंगे, अगर एयरफोर्स ने जंगलों में बम गिराए होते तो पाक ने जवाब नहीं दिया होता।’

धनोआ ने आगे कहा, ‘हमले से कितना नुकसान हुआ वायुसेना इस बात आकलन करने की स्थिति में नहीं है। इस मामले पर सरकार सफाई देगी। वायुसेना हमले में हुए जानी नुकसान की गिनती नहीं करती, हम ये तय करते हैं कि लक्ष्य पर निशाना लगा या नहीं।’

कहीं मसूद अजहर की मौत की ‘झूठी खबर’ उड़ाकर बड़ा गेम तो नहीं खेल रहा पाकिस्तान

कहीं मसूद अजहर की मौत की ‘झूठी खबर’ उड़ाकर बड़ा गेम तो नहीं खेल रहा पाकिस्तान

Maulana Masood Azhar Death News जैश ए मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर की मौत की अटकलों का बाजार गर्म है। पाकिस्तान से आ रही खबरों के मुताबिक आतंकी सरगना की मौत की दो अलग-अलग वजहों का दावा किया जा रहा है। अब खबरें मसूद अजहर के जिंदा होने की भी मिल रही हैं। बताया जा रहा है कि इस खूंखार आतंकवादी को किसी दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ऐसे में जानकारों का कहना है कि कहीं मसूद अजहर की मौत की ‘झूठी’ खबर पाकिस्तान ने ही खुद तो नहीं उड़ाई। क्योंकि ऐसा करने से उसे फायदा होगा।

एक ओर उसे भारतीय वायुसेना के बालाकोट हमले में गंभीर रूप से घायल होने और फिर मौत होने का दावा किया जा है, तो दूसरी ओर किडनी फेल होने या फिर लीवर कैंसर के मौत की बात कही जा रही है। लेकिन भारतीय सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि पुलवामा हमले के बाद बने दबाव से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए यह पाकिस्तान की नई चाल भी हो सकती है।

सुरक्षा एजेंसी से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मसूद अजहर के बारे में पाकिस्तान से अलग-अलग तरह की सूचना आ रही है। लेकिन स्वतंत्र रूप से किसी की पुष्टि नहीं हुई है। बालाकोट में एयर स्ट्राइक के दो दिन बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मसूद अजहर के पाकिस्तान में होने और गंभीर रूप से बीमार होने का खुलासा किया था।

इससे इस आशंका को बल मिलता है कि एयर स्ट्राइक में सचमुच में आतंकी सरगना गंभीर रूप से घायल हुआ होगा। इसे सीधे तौर पर नकारा नहीं जा सकता है। वैसे एयर स्ट्राइक में मसूद अजहर की मौत से पाकिस्तान पोषित आतंकियों के मनोबल पर बुरा प्रभाव पड़ता।

शायद यही कारण है कि बाद में यह खबर आनी शुरू हो गई कि अजहर मसूद की किडनी फेल हो गई है और वह डायलिसिस पर है। इसके साथ ही लीवर कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित होने की बात कही गई, लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि अभी तक स्वतंत्र रूप से किसी भी दावे की पुष्टि नहीं हुई है।

भारतीय एजेंसियों का मानना है कि मसूद अजहर की बीमारी और मौत की खबर पाकिस्तान की नई चाल हो सकती है। दरअसल मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने के लिए ब्रिटेन, फ्रांस और अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव पेश किया है।

माना जा रहा है कि पिछली बार की तरह इस बार शायद चीन मसूद को बचाने के लिए वीटो का इस्तेमाल करने से बचे। इसके साथ ही भारत भी पुलवामा हमले के बाद मसूद अजहर के खिलाफ साफ-साफ दिखने वाली कार्रवाई की मांग को लेकर अड़ा है। ऐसे में मसूद अजहर की मौत की झूठी खबर फैलाकर पाकिस्तान एक साथ कई निशाने साधने की कोशिश कर सकता है। जैश ए मुहम्मद को पहले ही पाकिस्तान ने प्रतिबंधित सूची में डाल रखा है।

Translate »