Month: January 2019

बिहार की बेटी USA में बनी सीनेटर; गीता के साथ ली शपथ, लगाया जय हिंद का नारा

बिहार की बेटी USA में बनी सीनेटर; गीता के साथ ली शपथ, लगाया जय हिंद का नारा

पटना । बिहार के मुंगेर जिले की मूल निवासी मोना दास अमेरिका के वाशिंगटन राज्‍य में डेमोक्रेटिक पार्टी की सीनेटर बन गईं हैं। खास बात यह कि उन्होंने गीता हाथ में रखकर पद की शपथ ली तथा ‘जय हिंद’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे भी लगाए।

इतना ही नहीं, उन्‍होंने महात्‍मा गांधी व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी तारीफ की। उन्‍होंने न केवल शपथग्रहण के लिए मकर संक्रांति का दिन चुना, बल्कि हिंदी में ‘नमस्‍कार’ व ‘प्रणाम’ कहते हुए मकर संक्रांति की शुभकामनाएं भी दीं।

संबोधन में उठाया बे‍टियों की शिक्षा का मुद्दा

शपथ ग्रहण के दौरान अमेरिकी सीनेट में अपने संबोधन के दौरान मोना दास ने बेटियों की शिक्षा का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा एक लड़की को शिक्षित करने से पूरा परिवार तथा आने वाली पीढ़ियों को भी शिक्षित किया जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि सीनेटर के रूप में वे लड़कियों को आगे बढ़ाने में अपनी भूमिका निभाएंगी। मोना को सीनेट हाउसिंग स्टेबिलिटी एंड अफोर्डेबिलिटी कमेटी की वाइस चेयरमैन का कार्यभार दिया जाएगा।

मुंगेर जिले के दरियापुर गांव को अपनी इस बेटी पर नाज है। वे मुंगेर के पूर्व सिविल सर्जन डॉ. गिरिश्वर नारायण दास की पौत्री और अमेरिका के कैलिफोर्निया में इंजीनियर सुबोध दास की बेटी हैं। गांव के संजय यादव सहित कई अन्‍य कहते हैं कि मोना ने पूरी दुनिया में अपने जन्मस्थान दरियापुर गांव का नाम रोशन कर दिया है।

गांव में मोना दास के चचेरे दादा अशोक मोदी, अरुण कुमार मोदी, चचेरी दादी चमेली देवी, चाचा पप्पू चौरसिया, गोपाल चौरसिया, कन्हैया चौरसिया व मुकेश चौरसिया आदि भी मोना की उपलब्धि से गदगद हैं। पंचायत की  मुखिया रेनू देवी, मुखिया प्रतिनिधि रामविलास यादव आदि ने कहा कि अब बिटिया एक बार गांव आए जाए, यही तमन्ना है।

TRP के जोश में कपिल शर्मा ने खोया होश, शो में कर दी इतनी बड़ी भूल!

TRP के जोश में कपिल शर्मा ने खोया होश, शो में कर दी इतनी बड़ी भूल!

मुंबई। कपिल शर्मा का कॉमेडी शो ‘द कपिल शर्मा शो’ टीआरपी की रेस में टॉप पर पहुंच गया है, मगर इस बीच कपिल से एक ऐसी मिस्टेक हो गयी है, जिसके लिए उन्हें माफ़ी मांगनी पड़ सकती है। दरअसल, कपिल ने अपने शो में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी का नाम भूलवश ग़लत रेफ़रेंस में इस्तेमाल कर दिया।

बात गुज़रे वीकेंड की है। द कपिल शर्मा शो में नवाज़उद्दीन सिद्दीक़ी और अमृता ठाकरे अपनी फ़िल्म ‘ठाकरे’ को प्रमोट करने पहुंचे थे। नवाज़ फ़िल्म में बाल ठाकरे के रोल में हैं, जबकि अमृता उनकी पत्नी का रोल निभा रही हैं। शो में कपिल ने नवाज़ के अभिनय की तारीफ़ करते हुए उनकी तमाम फ़िल्मों के नाम लिये। इसी क्रम में नवाज़ की ‘माउंटेन मैन’ का नाम भी आया।

कपिल ने इसके बारे में बोलते हुए कहा कि इस फ़िल्म में उन्होंने (नवाज़) जीतन राम मांझी का रोल निभाया। केतन मेहता निर्देशित ‘माउंटेन मैन’ दरअसल दशरथ मांझी की बायोपिक फ़िल्म है, जिन्होंने अपनी पत्नी के प्यार में पहाड़ काटकर रास्ता बनाया था। वहीं जीतन राम मांझी बिहार के दिग्गज लीडर हैं और मुख्यमंत्री रह चुके हैं। उस समय तो बात आई-गई हो गयी, मगर अब सोशल मीडिया में जब एक यूज़र ने वीडियो शेयर किया तो इस चूक पर कपिल की ख़ूब खिंचाई हो रही है।

इस एपिसोड का प्रसारण रविवार को हुआ था। शो में नवाज़ ने अपने करियर को लेकर तमाम तरह के खुलासे किये थे। कपिल ने नवाज़ से उनके किरदारों को लेकर पूछा था कि क्या वो असल ज़िंदगी में उन पर असर डालते हैं। इसके जवाब में नवाज़ ने कहा था कि कई बार ऐसा होता है। रमन राघव में उनका कैरेक्टर इतना डार्क था कि इससे निकलने के लिए अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था।

Train 18 के संचालन को मिली मंजूरी, जानें- कब से दिल्ली-वाराणसी के बीच शुरू होगा सफर

Train 18 के संचालन को मिली मंजूरी, जानें- कब से दिल्ली-वाराणसी के बीच शुरू होगा सफर

नई दिल्ली। लंबी प्रतीक्षा के बाद देश की सबसे हाईस्पीड ट्रेन 18 के संचालन को मंजूरी मिल गई है। बृहस्पतिवार को इसके संचालन की समय-सीमा तय कर दी गई है। इसके साथ ही रेलवे ने ट्रेन 18 को दिल्ली से वाराणसी के बीच चलाने की अंतिम तैयारियां भी शुरू कर दी हैं।

न्यूज एजेंसी पीटीआइ के अनुसार रेलवे मंत्रालय एक सप्ताह के भीतर अपनी महत्वपूर्ण ट्रेन 18 का संचालन शुरू कर देगा। ट्रेन के संचालन के लिए इलेक्ट्रिकल इंस्पेक्टर जनरल (EIG) ने तीन दिन के कड़े परीक्षण के बाद औपचारिक मंजूरी प्रदान कर दी है। रेल मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक सप्ताह के भीतर ट्रेन-18 को हरी झंडी दिखाकर इसके संचालन की शुरूआत कर सकते हैं।

मालूम हो कि रेल यात्री लंबे समय से ट्रेन-18 के चलने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। ट्रायल सफल रहने के बाद भी करीब एक माह से इस ट्रेन का संचालन अधर में लटका हुआ था। रेलवे सेफ्टी के चीफ कमिश्नर इसके संचालन के लिए सशर्त मंजूरी पहले ही प्रदान कर चुके हैं। बताया जा रहा है कि रेलवे बोर्ड से मंजूरी मिलने के बाद सोमवार को ट्रेन को EIG (इंस्पेक्शन) के पास निरीक्षण और मंजूरी लेने के लिए भेज दिया गया था।

ट्रेन का डिजाइन तैयार करने और निर्माण करने वाले रेलवे के रोलिंग स्टॉक विभाग ने इसके संचालन की मंजूरी के लिए EIG के पास भेजने पर आपत्ति व्यक्त की थी। रोलिंग स्टॉक विभाग का तर्क था कि अनुसंधान डिजाइन और मानक संगठन से ट्रेन को मंजूरी मिलने के बाद इसे निरीक्षण के लिए ईआईजी के पास भेजने की कोई कानूनी या प्रशासनिक जरूरत नहीं है।

DTH चैनल नहीं कर पा रहे Select, कीमत में है कंफ्यूजन, TRAI ने जारी की Channel Selector ऐप

DTH चैनल नहीं कर पा रहे Select, कीमत में है कंफ्यूजन, TRAI ने जारी की Channel Selector ऐप

नई दिल्ली । भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (TRAI) द्वारा बदले गए केबल और डीटीएच (DTH) के नियम 1 फरवरी 2019 से लागू हो जाएंगे। इससे पहले यूजर्स को अपने मनपसंद चैनल्स का चुनाव करना होगा। इस समय हर चैनल के साथ में उसका शुल्क लिखा आता है। साथ ही टीवी पर हर चैनल के अलग-अलग पैक के विज्ञापन को भी दिखाया जाता है। इसका सीधा मतलब यह है कि अब जो चैनल आप देखना चाहते हैं आपको उन्हीं का पैसा देना होगा। लेकिन कई यूजर्स को चैनल चुनने में कंफ्यूजन हो रही है। इसी के चलते TRAI ने चैनल सिलेक्शन प्रोसेस को आसान बनाने के लिए एक नई वेब एप्लीकेशन लॉन्च की है।

चैनल सेलेक्टर ऐप्लिकेशन यूजर की पसंद को समझेगा और चैनल की लिस्ट दिखाएगा। साथ ही आप जो भी चैनल चुनना चाहते हैं उसकी MRP भी बताई जाएगी। यह ऐप यूजर से कुछ सवाल करेगी। इसी के आधार पर यह यूजर को उसके पसंद के चैनल की लिस्ट दिखाएगी। TRAI की इस नए ऐप के जरिए यूजर्स मंथली रेंटल भी जान पाएंगे।

जानें कैसे करें इस्तेमाल:

  • इस ऐप्लीकेशन को इस्तेमाल करने के लिए आपको https://channel.trai.gov.in/ पर जाना होगा।
  • इसके बाद नीचे की तरफ दिख रहे Get Started पर क्लिक करें। यहां आपसे कुछ सवाल पूछे जाएंगे।
  • सबसे पहले यूजर उसका नाम, राज्य और फिर शैली प्राथमिकता जैसी जानकारी देनी होंगी।
  • जब यूजर सभी सवालों का जवाब दे देंगे तो उनके सामने आपकी रूचि के मुताबिक चैनल की लिस्ट आ जाएगी।
  • यूजर अपनी पसंद के चैनल का चुनाव कर अपने मासिक रेंटल प्लान के बारे में जानकारी प्राप्त कर पाएंगे।
  • इसके बाद ऊपर की तरफ दायीं तरफ View Selection बटन पर क्लिक करना होगा।
  • यहां फ्री चैनल,पेड चैनल, कुल राशि का भुगतान, जीएसटी टैक्स और नेटवर्क कैपेसिटी फीस (NFC) आदि की जानकारी दी जाएगी।
  • इसके अलावा मंथली रेंटल के साथ फ्री चैनल की लिस्ट को भी दिखाया गया है।
  • चैनल सिलेक्टर ऐप्लिकेशन पर बायीं तरफ कीमत, एचडी/एसडी, शैली, ब्रॉडकॉस्टर और भाषा जैसे कई विकल्प दिखाई देंगे। यूजर अपनी जरुरत के हिसाब से फिल्टर सेट कर सकते हैं।
  • ‘View Selection पेज पर ऑप्टिमाइज बटन भी दिया जाएगा। यहां आपको सस्ता पैकज भी दिखाया जाएगा।

इस साल पहली बार सबसे साफ हवा में सांस ले रहे हैं दिल्ली-NCR के 4 करोड़ लोग

इस साल पहली बार सबसे साफ हवा में सांस ले रहे हैं दिल्ली-NCR के 4 करोड़ लोग

नई दिल्ली। झमाझम बारिश ने ठिठुरन भरी ठंड ही नहीं बढ़ाई बल्कि दिल्ली एनसीआर के प्रदूषण को भी धो डाला। आलम यह रहा कि इस साल पहली बार एयर इंडेक्स सामान्य स्थिति में पहुंच गया। अगले तीन दिनों तक प्रदूषण के खराब स्तर से ऊपर जाने की संभावना नहीं है।

एयर क्वालिटी इंडेक्स (Air Quality Index) के मुताबिक, दिल्ली के लोधी रोड इलाके में पीएम 2.5 का स्तर 84 तो पीएम 10 का स्तर 73 है। इस स्तर को संतोषजनक माना जाता है। बताया जा रहा है कि इस साल पहली पर दिल्ली के दो करोड़ से अधिक लोगों समेत एनसीआर के दो करोड़ लोग भी खुली और शुद्ध हवा में सांस ले रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक इससे पहले नवंबर माह में एक दिन के लिए दिल्ली में सामान्य स्तर का प्रदूषण दर्ज किया गया था। पिछले चार सालों के दौरान महज दो बार जनवरी में इस स्तर का प्रदूषण दिल्ली वालों को मिला है। 2017 की जनवरी में दो दिन सामान्य स्तर का प्रदूषण रहा था। इसके अलावा 2016 से अब तक जनवरी में इतना कम प्रदूषण नहीं हुआ है।

सीपीसीबी के एयर बुलेटिन के मुताबिक, मंगलवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 104 रहा। वहीं एनसीआर इससे भी ज्यादा साफ रहा, हालांकि दिल्ली का एयर इंडेक्स शाम 6 बजे के बाद 100 से नीचे पहुंच गया।

मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार को प्रदूषण में काफी अधिक सुधार हुआ है। बुधवार को स्थिति कुछ खराब होगी, लेकिन प्रदूषण सामान्य स्तर पर बना रहेगा। बृहस्पतिवार को प्रदूषण खराब स्थिति में आ सकता है। सफर के अनुसार अगले तीन दिनों तक बारिश का असर बना रहेगा।

चीन की सेना में हुए बड़े बदलाव के पीछे क्या है वजह, कहीं भारत तो नहीं कारण

चीन की सेना में हुए बड़े बदलाव के पीछे क्या है वजह, कहीं भारत तो नहीं कारण

नई दिल्‍ली । चीन अपनी सेना में बड़ा बदलाव किया है। इसके तहत उसने अपन थल सेना के आकार में लगभग 50 फीसद तक की कटौती की है। हालांकि, इस कटौती के बाद भी 20 लाख सैनिकों के साथ पीएलए दुनिया की सबसे बड़ी सेना बनी हुई है। चीन की मीडिया ने इसको इतिहास का असाधारण बदलाव बताया है। इस बदलाव के तहत वह अपनी थल सेना में कटौती कर नौसेना और वायुसेना में इजाफा कर रहा है। इसके पीछे एक नहीं बल्कि कई वजह हैं। वहीं यदि इसके दो बड़े कारणों पर गौर किया जाए तो उसमें एक बड़ा कारण भारत है तो दूसरा बड़ा कारण चीन की विस्‍तारवादी नीति है। आपको बता दें कि दक्षिण चीन सागर पर कब्जे को लेकर अमेरिका और चीन कई बार आमने-सामने आ चुके हैं। इस पर दोनों ही एक दूसरे को अल्‍टीमेटम भी दे चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसपर कई देशों ने अपना हक जताया है। ताजा फैसले के पीछे यहां पर चीन की मौजूदगी की भी एक बड़ी वजह है।

दक्षिण चीन सागर 
दरअसल, यह पूरा इलाका प्राकृतिक संसाधनों से भरा पड़ा है। इस इलाके से करीब 335 लाख करोड़ का सालाना कारोबार होता है। दुनियाभर के 33 फीसद व्‍यापारिक जहाज इसी मार्ग से होकर गुजरते हैं। यही वजह है कि चीन इस जगह को लेकर काफी संजीदा है और वह अमेरिका से भी आर-पार को तैयार है। इस पर मलेशिया, ताइवान, फिलीपींस, वियतनाम और ब्रुनई भी अपना हक जताता है। समुद्र से पूरी तरह से घिरा होने की वजह से यहां की सुरक्षा की पूरी जिम्‍मेदारी या तो नौसेना के पास है या फिर चीन की वायुसेना के पास। इसके अलावा यह पूरा इलाका आम नागरिकों के लिए पूरी तरह से निषेध है, इसलिए यहां की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी इन्‍हीं के पास है। यहां पर थल सेना की कोई भूमिका नहीं है।

चीन की विस्‍तारवादी नीति 
थल सेना में कटौती कर नौसेना और वायुसेना में इजाफा करने की वजह के पीछे दूसरी बड़ी वजह चीन की विस्‍तारवादी नीति भी है। आपको बता दें कि चीन लगातार अपने पांव हिंद महासागर में फैला रहा है। यहां पर वह अपनी कर्ज नीति का दांव खेलकर छोटे देशों को अपनी मुट्ठी में करना चाहता है। इसके तहत वह नेपाल, म्‍यांमार, बांग्‍लादेश, श्रीलंका, मालदीव और पाकिस्‍तान को अपनी गिरफ्त में ले चुका है। पाकिस्‍तान में बनने वाले आर्थिक गलियारे पर चीन खरबों रुपये खर्च कर रहा है। इसके लिए चीन ने पाकिस्‍तान को अरबों का कर्ज भी दिया है। सीपैक सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है बल्कि इससे भी कहीं आगे है। चीन पाकिस्‍तान के लिए कुछ पनडुब्बियां भी बना रहा है। यह सारा खेल चीन ने हिंद महासागर में पांव पसारने और भारत के बढ़ते कदमों को रोकने के लिए रचा है। इस बड़े इलाके में नजर रखने की भी जिम्‍मेदारी चीन की वायुसेना और नौसेना की ही है। यहां पर भी चीन की थलसेना की कोई जगह नहीं है।

चीन के सीमा विवाद 
चीन के इस बड़े फैसले को समझने के लिए यह भी जानना जरूरी है कि चीन की सीमाएं भले ही सिर्फ 14 देशों के साथ मिलती हैं, लेकिन इसका सीमा विवाद 23 देशों के साथ है। भारत, अफगानिस्‍तान, कजाखिस्‍तान, मंगोलियां भी शामिल हैं। इसके अलावा इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता है कि भविष्‍य में किसी भी युद्ध में वायुसेना और नौसेना की अहम होगी। भविष्‍य का युद्ध पूरी तरह से तकनीक के आधार पर लड़ा जाएगा, जिसे चीन बखूबी जानता है। इसके लिए चीन काफी समय से तैयारी कर रहा है। उसकी नौसेना और वायुसेना की बात करें तो पिछले वर्ष चीन ने इन्‍हें और मजबूती देने के लिए अत्‍याधुनिक लड़ाकू विमान और स्‍वदेशी पनडुब्‍बी समुद्र में उतारी है। चीन का पूरा ध्‍यान अब हिंद महासागर में मौजूद देशों को साधने में लगा है। यही वजह है कि वह अपनी नौसेना और वायुसेना का दायरा बढ़ा रहा है। आपको बता दें कि चीन ने पिछले वर्ष ही अफ्रीकी देश जिबूती में अपना पहला नौसेना का बेस बनाया है। चीन की नौ सेना के पास अभी एक विमानवाहक युद्धपोत है, जबकि दूसरे का परीक्षण चल रहा है और तीसरे युद्धपोत का निर्माण जारी है। सरकारी मीडिया के मुताबिक चीन अपनी नौ सेना में पांच से छह विमानवाहक युद्धपोत को शामिल करने की तैयारी में है।

ये भी हैं वजह
शंघाई के सैन्य मामलों के जानकार नी लेक्सियांग का भी कहना है कि चीन की इस रणनीतिक बदलाव में सीमा से दूर अपने हितों की रक्षा का मकसद छिपा है। साथ ही एक दूसरा उद्देश्य देश की सीमा से दूर के क्षेत्रों में भी अपनी ताकत को मजबूत करना है। उनके मुताबिक मौजूदा वक्त में थल सेना की अहमियत कम हो गई है। अब अंतरिक्ष, हवा और साइबर क्षेत्र में दबदबा कायम करने का समय आ गया है।

Ind vs NZ: पहले वनडे में जीत के बाद बने ढेर सारे रिकॉर्ड, गिनते-गिनते थक जाएंगे आप

Ind vs NZ: पहले वनडे में जीत के बाद बने ढेर सारे रिकॉर्ड, गिनते-गिनते थक जाएंगे आप

नई दिल्ली। भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच नेपियर में खेले गए पहले वनडे मैच को टीम इंडिया ने 8 विकेट से जीता। इस जीत से भारत ने पांच वनडे मैचों की सीरीज में न्यूजीलैंड के खिलाफ 1-0 से बढ़त बना ली है। इस मैच में न्यूज़ीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया। भारतीय गेंदबाज़ों के बेहतरीन प्रदर्शन की बदौलत कीवी टीम 157 रन पर ऑल ऑउट हो गई। हालांकि डूबते सूरज की रोशनी के कारण खेल कुछ देर के लिए मैच रोकना पड़ा। इसकी वजह से भारत को  जीत के लिए 156 रन का संशेाधित लक्ष्य दिया गया।

सूरज की रोशनी से रुका मैच

पहली बार मैच में ऐसे हालात में डकवर्थ लुईस प्रणाली का इस्तेमाल किया गया जिसमें बारिश के कारण व्यवधान पैदा नहीं हुआ था। भारत का स्कोर जब एक विकेट पर 44 रन था तब डूबते सूरज की रोशनी के कारण गेंद नहीं देख पाने की वजह से मैच रोकना पड़ा। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ऐसी दिक्कत पहली बार देखने को मिली।करीब आधे घंटे के विलंब के कारण लक्ष्य 49 ओवरों में 156 रन का कर दिया गया जो भारत ने बिना किसी परेशानी के हासिल कर लिया। डिनर के बाद रोहित शर्मा अपना विकेट गंवा बैठे लेकिन विराट कोहली और धवन ने टीम को जीत तक पहुंचाया।

विराट कोहली (10430 रन) ने सबसे ज्यादा वनडे रन के मामले में ब्रायन लारा (10405 रन) को पीछे छोड़ा और अब वह लिस्ट में 10वें स्थान पर पहुंच गए हैं। पहले स्थान पर सचिन तेंदुलकर (18426) के अलावा और कौन हो सकता है।

Priyanka Gandhi की राजनीति में एंट्री, राहुल ने बनाया कांग्रेस महासचिव, मिली पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान

Priyanka Gandhi की राजनीति में एंट्री, राहुल ने बनाया कांग्रेस महासचिव, मिली पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान

नई दिल्ली। Priyanka Gandhi ने आखिरकार राजनीति में आने का फैसला कर लिया है। उन्हें कांग्रेस का महासचिव बनाया गया है। खबरों के अनुसार प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान दी गई है। आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए प्रियंका गांधी की राजनीति में एंट्री को कांग्रेस के ट्रंप कार्ड के रूप में देखा जा रहा है।

प्रियंका गांधी अब उत्तर प्रदेश की राजनीति को देखेंगी। प्रियंका के अलावा मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी दी गई है। केसी वेणुगोपाल को संगठन में कांग्रेस महासचिव बनाया गया है।

प्रियंका गांधी की नियुक्ति पर राहुल गांधी ने कहा कि प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया यूपी के युवाओं के सपनों को पूरा करेंगे। प्रियंका गांधी की एंट्री से कांग्रेस की विचारधारा उत्तर प्रदेश में आएगी। प्रियंका गांधी एक कर्मठ और काबिल नेतृत्व देने में सफल होंगी। मुझे ख़ुशी है कि वह अब मेरे साथ काम करेंगी। मुझे निजी रूप से इस बात की ख़ुशी है। वह यह भी बोले, मैं अखिलेश और मायावती का भी सम्मान करता हूँ। उनके लिए दरवाजे हमेशा खुले हैं।

प्रियंका गांधी फरवरी माह के पहले हफ्ते में अपना कार्यभार संभालेंगीं। कांग्रेस की तरफ से जारी प्रेस नोट में इस संबंध में जानकारी दी गई है। इसी प्रेस नोट में गुलाम नबी आजाद को तुरंत प्रभाव से हरियाणा की जिम्मेदारी दिए जाने के संबंध में भी लिखा गया है।

 

रॉबर्ट वाड्रा ने फेसबुक पर दी बधाई

प्रियंका गांधी वाड्रा को पूर्वी उत्तर प्रदेश का महासचिव बनाए जाने पर उनके पति रॉबर्ट वाड्रा ने बधाई दी है। प्रियंका की इस ताजपोशी पर खुशी जाहिर करते हुए वाड्रा ने फेसबुक पर लिखा कि वह नई राजनीतिक पारी के लिए प्रियंका को शुभकामनाएं देते हैं। वाड्रा ने कहा कि वह जीवन के हर मोड़ पर प्रियंका का साथ देंगे। प्रियंका गांधी अभी विदेश दौरे पर हैं।

शिक्षा शिखर सम्मलेन 2019

शिक्षा शिखर सम्मलेन २०१९

सावित्री बाई फुले के जन्म सप्ताह पर दिनांक 13 जनवरी 2019, नई दिल्ली के लाजपत भवन सभागार, लाजपत नगर दिल्ली में मौर्य फ्रेंड्स ग्रुप द्वारा शिक्षा  शिखर सम्मलेन समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें “भारतीय शिक्षा प्रणाली और महिला सशक्तिकरण” विषय पर विचारमंथन किया गया था ।

 

इस कार्यक्रम में मुख्य अथिति मा. संतोष भगत (अंतर्राष्ट्रीय उद्योगपति), मा. प्रियंका शाक्य (इंटेरप्रेनुर) और  मा.अविनाश चंद्र  (एस.डी.एम. – बुलंद शहर) विशिष्ट अथिति रहे।

 

इस कार्यक्रम पर वर्त्तमान में शिक्षा व्यवस्था और उसमें महिला शिक्षा की दशा पर विचार विमर्श किया गया।

 

इस सम्मेलन में उत्कृष्ट विद्यार्थियों अध्यापकों और व्यपार , तकनीक, उद्योग, ….. अदि क्षेत्रों से जुड़े लोगो को सम्मानित भी किया गया।

पुरस्कार की श्रेणी “वरिष्ठता का सम्मान” में वरिष्ठ नागरिकों को समाज के प्रति किये किए कार्यों के लिए सम्मानित किया गया।

 

बच्चों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। गायक बबली सैनी जी द्वारा माता सावित्री बाई फुले के सम्मान में गीत प्रस्तुत किया गया।

 

ब्रेन बूस्टर संस्थान द्वारा अभिभावकों को शिक्षा पद्धति में हो रहे सतत बदलाव से अवगत कराया गया, साथ ही अभिभावक एवं बच्चों को ध्यान पद्धति और स्वस्थ जीवनशैली का लाभ “बौद्धिक एवं शिक्षा स्तर में वृद्धि और भावनात्मक रूप से स्थिरता” के बारे में बताया गया।बच्चों द्वारा ध्यान से जुड़ी रोचक गतिविधियों का प्रदर्शन किया गया।

 

मौर्य फ्रेंड्स ग्रुप के कार्यों की उपस्थित अथितियों ने सराहना की और साथ उसमें अपनी भागेदारी और साथ भी सुनिश्चित किया।

सफल आयोजन का श्रेय सभी उपस्थित लोगों का रहा।

हिमाचल में भारी हिमपात से जनजीवन प्रभावित

हिमाचल में भारी हिमपात से जनजीवन प्रभावित

 शिमला। राजधानी शिमला में बर्फबारी के दूसरे दिन भी धूप खिले होने के बावजूद भी दोपहर 12 बजे तक जन जीवन सामान्य नहीं हो पाया। रास्तों पर फिसलन होने के कारण लोग फिसल कर गिरते पड़ते रहे। वहीं ऊपरी शिमला के लिए कुफरी नारकंडा, ठियोग में यातायात बहाल नहीं हो पाया है। जिस कारण लोगों का शहर पहुंचना मुश्किल भरा हो गया है। राजधानी शिमला से पर्यटकों ने सुबह ही कुफरी की ओर रुख किया। लेकिन ढली से छराबड़ा तक सड़क पर बर्फ जमी होने के कारण फिसलन बनी रही और पर्यटकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।

मजदूरों से 500 से 1000 रुपये वसूले

मजदूरों ने बर्फ में फंसी गाड़ियों को निकालने के लिए 500 रुपये से 1000 रुपये वसूले। पर्यटन स्थलों में ढाबों में भी लूट का बाजार गर्म हो गया। 15 रुपये की चाय बिकी जबकि परांठा 30 रुपये में मिला। लेकिन मजबूरी में पर्यटकों को दाम अदा करने पड़े।

शहर में नहीं मिला पानी

राजधानी शिमला में बर्फबारी के कारण पानी की पाईपें जाम हो गई। जिस कारण लोगों को पेयजल किल्लत का सामना करना पड़ा। लोगों ने बर्फ को पिघलाकर काम चलाया।

आपात सेवाएं रात को ही हो गई बहाल

राजधानी शिमला में अस्पतालों के रास्तों से रात को ही बर्फ हटा दी गई थी जिस कारण आपात सेवाओं पर बर्फबारी का कोई खास असर देखने को नहीं मिला। लेकिन पैदल चलने वालों के लिए सोमवार को भी बर्फ मुसीबत बनी रही और लोग गिरते पड़े अपने गंतव्य तक पहुंचे।

Translate »