Day: December 22, 2018

अमेरिका / हड़ताल पर ट्रम्प सरकार, क्रिसमस की छुट्टियों से पहले बिना तनख्वाह के रहेंगे 8 लाख कर्मचारी

वॉशिंगटन. मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के लिए अमेरिकी संसद (कांग्रेस) से फंड मुहैया नहीं कराए जाने के बाद शनिवार को अमेरिकी सरकार आंशिक रूप से हड़ताल (शटडाउन) पर चली गई। अब इसके चलते अमेरिका में करीब 8 लाख कर्मचारियों को क्रिसमस से ठीक पहले छुट्टी पर जाना होगा या बिना तनख्वाह के काम करना पड़ेगा। रात 12 बजे के बाद करीब एक-चौथाई अमेरिकी फेडरल एजेंसियों की फंडिंग रुक गई। इसकी वजह से गृह विभाग, परिवहन, कृषि, विदेश और न्याय विभाग शटडाउन पर चले गए। यहां तक कि नेशनल पार्क और जंगलों को भी बंद कर दिया जाएगा।

तीन महीने पहले इसी मुद्दे पर दी थी शटडाउन की धमकी
ट्रम्प ने चुनाव से पहले वादा किया था कि राष्ट्रपति बनने के बाद वे मैक्सिको की सीमा से अवैध आव्रजन और ड्रग्स की तस्करी रोकने के लिए सीमा पर दीवार बनवाएंगे। इसी वादे को पूरा करने के लिए वे पिछले काफी समय से कांग्रेस से फंड्स की मांग कर रहे हैं। तीन महीने पहले सितंबर में भी उन्होंने कांग्रेस को हड़ताल पर जाने की धमकी दी थी।

स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के बारे में कितना जानते हैं आप, जानिए इसके फायदे

आज के समय में इंटरनेट छात्र जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है, बहुत से छात्र डिजिटल वॉलेट, क्रेडिट कार्ड और डिजिटल लेनदेन पसंद करते हैं। यदि आप एक छात्र हैं और घर से दूर रहकर पढ़ रहे हैं तो एक ही समय में अपने पैसे और व्यय का प्रबंधन करना मुश्किल हो सकता है। हालांकि बहुत से लोग ऑनलाइन पेमेंट का अक्सर उपयोग करते हैं। आजकल, अधिकांश बैंक और क्रेडिट कार्ड कंपनियां स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड देती हैं। हम इस खबर में आपको स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के बारे में बता रहे हैं।

किसे मिलेगा?

उम्र: क्रेडिट कार्ड आवेदन के लिए छात्र की उम्र 18 वर्ष या उससे अधिक होना चाहिए।

कॉलेज छात्र:  यह क्रेडिट कार्ड स्कूल के छात्रों के लिए नहीं है। केवल कॉलेज जाने वाले छात्र इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करते वक्त आपको कॉलेज आईडी जैसे सबूत की आवश्यकता होगी।

एजुकेशन लोन: कुछ बैंक केवल उन्हीं छात्रों को क्रेडिट कार्ड देते हैं जो उस बैंक से एजुकेशन लोन ले चुके हैं।

क्रेडिट सीमा: चूंकि यह स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड है, इसलिए यह सुनिश्चित करने के लिए कि छात्र बेकार खर्च नहीं करेगा, क्रेडिट सीमा 15,000 रुपये तक सीमित है।

वैधता: सामान्य क्रेडिट कार्ड में 3 साल की वैधता होती है, वहीं दूसरी ओर स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड 5 साल के लिए मान्य होता है।

तैयार है देश का सबसे बड़ा पुल, ट्रेनों के साथ दौड़ेंगी गाड़ियां.. और भी जानिए

 डिब्रूगढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर ब्रह्मपुत्र नदी पर बने देश के सबसे लंबे और एशिया के दूसरे सबसे लंबे रेल-सड़क पुल बोगीबील ब्रिज का उद्घाटन करेंगे। यह पुल ब्रह्मपुत्र नदी के उत्तर तथा दक्षिणी तटों को जोड़ता है। वाजयेपी के जन्मदिवस 25 दिसंबर को मनाये जाने वाले सुशासन दिवस के दिन देशवासियों को इसकी सौगात मिलेगी।

इस पुल की आधारशिला 1997 में तत्कालीन प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा ने रखी थीं, लेकिन इसका निर्माण अप्रैल 2002 में शुरू हो पाया था। उस समय तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने रेलमंत्री नीतीश कुमार के साथ इसका शिलान्यास किया था।

पूर्वोत्तर के राज्य असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने इस बोगीबील पुल की लंबाई 4.94 किलोमीटर है। यह पुल नदी के दक्षिणी किनारे पर स्थित डिब्रूगढ़ जिले को अरुणाचल प्रदेश की सीमा से लगते धेमाजी जिले के सीलापथार को जोड़ता है। पुल के बनने के बाद अरुणाचल प्रदेश से चीन की सीमा तक पहुंचना आसान हो जाएगा।

दिल्ली में नए साल पर गाड़ी खरीदना महंगा, 75000 रुपये होगा अधिकतम पार्किंग चार्ज

नई दिल्ली । दिल्ली-एनसीआर के लाखों लोगों को एक जनवरी, 2019 से ही बड़ा झटका लगने वाला है। नए साल से दिल्ली में गाड़ी लेना तकरीबन 18 गुना तक महंगा हो जाएगा। जहां पहले प्राइवेट गाड़ी खरीदने के दौरान वन टाइम पार्किंग चार्ज 4000 रुपये देना पड़ता था, अब परिवहन विभाग द्वारा जारी नए आदेश में 75000 रुपये तक देना होगा। बता दें कि एजेंसी से गाड़ी खरीदने के वक्त ही नगर निगम का पार्किंग चार्ज जुड़ जाता है। यहां यह बताना भी जरूरी है कि कमर्शियल गाड़ियों पर पार्किंग चार्ज हर साल लगता है।

परिवहन विभाग के नए आदेश को प्राइवेट कमर्शियल और नॉन कमर्शियल गाड़ियों पर 1 जनवरी, 2019 से लागू करने के निर्देश दिए हैं। इतना ही नहीं, विभाग ने पार्किंग चार्ज बढ़ाने के भी आदेश दिए हैं और ऐसी स्थिति में 75000 रुपये तक पार्किंग चार्ज देने पड़ेंगे। यह आदेश दिल्ली सरकार के ट्रांसपोर्ट विभाग की ओर से शुक्रवार को दिए गए हैं। इस आदेश के सार्वजनिक होते ही ट्रांसपोर्ट संगठनों के साथ लोगों में भी हड़कंप मच गया है।

प्रियंका चोपड़ा-निक जोनस के रिसेप्शन में रणवीर-दीपिका समेत पहुंचे ये स्टार्स

मुंबई। प्रियंका चोपड़ा ने निक जोनस से शादी के बाद आखिरकार बॉलीवुड के दोस्तों को भी पार्टी दे ही दी। गुरुवार रात प्रियंका चोपड़ा की वेडिंग रिसेप्शन में तमाम स्टार्स पहुंचे। सलमान ख़ान की मौजूदगी ख़ास रही।

सलमान ख़ान के अलावा दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह की जोड़ी भी इस मौके पर मौजूद दिखी। अन्य मेहमानों में तमाम फ़िल्मकारों से लेकर खेल और बिजनेस की दुनिया के कई महारथी इस रिसेप्शन पार्टी में शामिल हुए। करण जौहर, बॉबी देओल, अनुष्का शर्मा, सानिया मिर्ज़ा, साइना नेहवाल, तमन्ना भाटिया, सुभाष घई, मधुर भंडारकर, ए आर रहमान, कंगना रनौत, जीतेंद्र, तुषार कपूर, हेमा मालिनी, संजय दत्त, कार्तिक आर्यन, भूमि पेडनेकर, शबाना आज़मी, काजोल, आशा भोंसले जैसे कई विशिष्ट मेहमान इस कार्यक्रम में मौजूद रहे। इस मौके पर निक के साथ प्रियंका चोपड़ा इस अंदाज़ में दिखीं।

सलमान ख़ान का आना इसलिए भी चर्चा में रहा क्योंकि आपको याद होगा प्रियंका चोपड़ा ने अपने आप को सलमान की फ़िल्म ‘भारत’ से अलग कर लिया था और उसके बाद दोनों के रिश्तों में खटास बताई जा रही थी। लेकिन, सलमान जिस अंदाज़ में प्रियंका के रिसेप्शन में मौजूद रहे उससे तो यही समझ आता है कि दोनों के बीच सब कुछ ठीक ठाक है।

कटरीना कैफ़ भी इस दौरान मौजूद रहीं। प्रियंका चोपड़ा ने ख़ास तौर से गोविंदा को भी इस मौके पर आमंत्रित किया था। गोविंदा अपनी पत्नी और बेटी टीना के साथ पहुंचकर प्रियंका और निक को बधाई दी।

सारा अली ख़ान और जाह्नवी कपूर ने भी अपनी मौजूदगी से प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस के रिसेप्शन में रंग जमा दी। आप देख सकते हैं इस मौके पर सारा और जाह्नवी कितनी खूबसूरत लग रही हैं।

कुल मिलाकर यह शाम सितारों से सजी थी और अब कहा जा सकता है कि प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस की शादी का जश्न इसी पार्टी से पूरा होता है। आपको याद होगा 2 दिसंबर को जोधपुर में शादी के बाद 4 दिसंबर को देश की राजधानी दिल्ली में भी प्रियंका अपनी शादी का रिसेप्शन दे चुकी हैं। उसके बाद 20 दिसंबर से पहले 19 दिसंबर को भी प्रियंका ने अपने रिश्तेदारों और मीडिया के साथियों के लिए पार्टी रखी थी और अब गुरुवार को उन्होंने बॉलीवुड साथियों को भी पार्टी दे ही दी।

एक्वा लाइन मेट्रो के रूप में मिलेगा न्यू ईयर गिफ्ट

akka metro

नोएडा । नोएडा मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (NMRC) को एक्वा लाइन शुरू करने के लिए अंतिम एवं आवश्यक सुरक्षा निरीक्षण रिपोर्ट की मंजूरी मिल गई है। इस मंजूरी के मिलने के बाद एनएमआरसी ने उत्तर प्रदेश सरकार को एक्वा लाइन के उद्घाटन की तारीख तय करने संबंधी पत्र लिखा है। बहुप्रतीक्षित एक्वा लाइन नोएडा के सेक्टर 71 से ग्रेटर नोएडा के डिपो स्टेशन के बीच 29.7 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। एक्वा लाइन पर कुल 21 स्टेशन होंगे।

एनएमआरसी के कार्यकारी निदेशक पीडी उपाध्याय के मुताबिक, मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त की रिपोर्ट प्राप्त हो गई है और इसमें मेट्रो सेवा के वाणिज्यिक संचालन की मंजूरी है। माना जा रहा है कि जनवरी महीने में कभी भी इसका उद्घाटन हो सकता है।

नोएडा-ग्रेटर नोएडा की एक्वा लाइन मेट्रो संचालन के लिए कमिश्नर ऑफ मेट्रो रेल सेफ्टी (सीएमआरएस) से व्यवसायिक मंजूरी मिलने के साथ ही नोएडा मेट्रो रेल कारपोरेशन (एनएमआरसी) 28 दिसंबर को बोर्ड बैठक होगी। अध्यक्षता एडिशनल सेकेट्री मिनिस्ट्री ऑफ हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स संजय कुमार मूर्ति करेंगे। बोर्ड बैठक में एक्वा लाइन मेट्रो के किराए की घोषणा की जाएगी। एक्वा लाइन मेट्रो के व्यवसायिक संचालन से पहले यह अतिमहत्वपूर्ण बैठक मानी जा रही है।

सितंबर से चल रहा  एक्वा रूट पर ट्रॉयल रन
सितंबर में एनएमआरसी ने सीएमआरएस से एक्वा लाइन मेट्रो रूट के निरीक्षण का आग्रह किया था। उसके बाद ग्रेटर नोएडा स्थित एक्वा लाइन मेट्रो डिपो में दो दिन तक सीएमआरएस के डिप्टी ने निरीक्षण कार्य पूरा किया। इस दौरान सभी तकनीकि पहलुओं की गहनता से जांच की गई। इसमें टीम ने वहां रॉलिंग स्टॉक, डिपो मे बना ट्रैक समेत कोच की साफ सफाई, सेफ्टी बटन, डोर के खुलने व बंद होने जैसे कई बिंदुओं पर जांच की।

ऐसे एक्वा मेट्रो को व्यवसायिक संचालन की मंजूरी
गौरतलब है कि सीएमआरएस ने 11 से 13 दिसंबर तक 29.707 किलोमीटर लंबे ब्रेक व सिविल कार्य का निरीक्षण किया। यह निरीक्षण सबसे महत्वपूर्ण होता है। वह पैसेंजर सेफ्टी के लिए प्रत्येक स्टेशन पर उतरकर डोर खुलने व बंद होने की टाइमिंग, मेट्रो की स्पीड, एक मेट्रो के रवाना होने पहुंचने और दूसरे के आने की टाइमिंग की भी जांच की। इसके अलावा और तमाम तकनीकी पहलुओं की जांच की गई। इसकी एक रिपोर्ट तैयार की गई।

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि 11 व 12 दिसंबर को सीएमआरएस की ओर से मोटर ट्रॉली के जरिए एक्वा की स्टैंडर्ड गेज पर आधारित डबल लाइन 1 गुना 25 केवी एसी ओवर हेड लाइन का सेक्टर-51 स्टेशन से डिपो स्टेशन तक निरीक्षण हुआ। निरीक्षण के बाद 13 दिसंबर को मेट्रो स्पीड का ट्रॉयल हुआ। इस दौरान डिपो स्टेशन से सेक्टर-51 मेट्रो स्टेशन तक गई। इसके बाद स्पेशल मेट्रो से टीम वापस मेट्रो डीपो पहुंची। इस दौरान मेट्रो 92 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से ट्रैक पर दौड़ी। हालांकि मेट्रो में कंपन की स्थिति मानको के अनुसार ही बनी रही। इस आधार पर सीएमआरएस ने एनएमआरसी को एक्वा के व्यवसायिक संचालन के लिए हरी झंडी दे दी।

एक नजर में नोएडा-ग्रेटर नोएडा की एक्वा लाइन मेट्रो  पर 

एक्वा लाइन मेट्रो के ट्रैक की कुल लंबाई 29.707 किलोमीटर है।

  • कुल 21 मेट्रो स्टेशन होंगे एक्वा लाइन मेट्रो कॉरिडोर पर
  •  15 मेट्रो स्टेशन नोएडा में और 6 मेट्रो स्टेशन ग्रेटर नोएडा में है।
  • 92 किमी प्रति घंटा होगी अधिकतम रफ्तार, 35 किमी प्रतिघंटा की औसतर रफ्तार पर होगा संचालन।
  • 1034 यात्री एक बार में एक ट्रेन में कर सकेंगे सफर।
  • चार कोच की मेट्रो का संचालन होगा शुरूआत में, जरूरत पड़ने पर छह कोच तक किए जा सकते हैं।
  • 5,503 करोड़ रुपये है इस कॉरिडोर का बजट।
  • 5 अगस्त 2015 को शुरू हुआ था इस रूट का सिविल निर्माण कार्य
  • पहले चरण में 11 मेट्रो ट्रेनों का किया जाएगा संचालन
  • 600 पीएसी जवान के साथ 200 निजी सुरक्षा गार्ड करेंगे सुरक्षा
  • 15 मई 2015 को रूट पर शुरू हुआ था निर्माण कार्य
  • करीब एक लाख सवारियों का प्रतिदिन इस रूट पर आवागमन होगा
  • स्टेशन की बिजली की जरूरतें पूरी करने के लिए डिपो समेत सभी स्टेशन पर सोलर पैनल लगाए गए हैं, केवल ट्रेन के संचालन के लिए अलग से बिजली का प्रयोग किया जाएगा।
Translate »