Day: October 24, 2018

वित्तीय नतीजे / विप्रो को जुलाई-सितंबर में 1889 करोड़ रु का मुनाफा, पिछले साल से 14% कम

बेंगलुरु. देश की तीसरी बड़ी आईटी कंपनी विप्रो को जुलाई-सितंबर तिमाही में 1,889 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ। यह जुलाई-सितंबर 2017 के 2,191.80 करोड़ रुपए के मुकाबले 13.8% कम है। हालांकि, रेवेन्यू 8.32% बढ़कर 14,541 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल यह 13,423.40 करोड़ रुपए था। कंपनी ने बुधवार को बोर्ड मीटिंग के बाद नतीजे घोषित किया।

आईटी सर्विस रेवेन्यू 4.9% बढ़ा

आईटी सर्विस रेवेन्यू तिमाही आधार पर 4.9% बढ़कर 14,377 करोड़ रुपए रहा। अप्रैल-जून तिमाही में यह 13,700 करोड़ रुपए था। कंपनी के रेवेन्यू का बड़ा हिस्सा आईटी सर्विस से ही आता है। हालांकि, आईटी सेगमेंट के एबिट में कमी आई है। यह 2,100 करोड़ रुपए रहा। अप्रैल-जून में यह 2,397 करोड़ रुपए था।

एक अप्रैल 2020 से बीएस-4 वाहनों की बिक्री और रजिस्ट्रेशन नहीं होगा : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली. एक अप्रैल 2020 से देश में भारत स्टेज (बीएस)-4 वाहनों की बिक्री और रजिस्ट्रेशन नहीं होगा। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को यह आदेश दिया। कोर्ट ने 27 अगस्त को इस मामले में फैसला सुरक्षित रखा था। बीएस-4 प्रदूषक उत्सर्जन का मानक है। केंद्र सरकार ने 2016 में यह घोषणा की थी कि बीएस-5 मानकों से आगे बढ़कर 2020 तक बीएस-6 मानक लागू किए जाएंगे। बीएस-6 ईंधन में बीएस-4 के मुकाबले सल्फर काफी कम होता है। इससे प्रदूषण घटता है। उच्च बीएस मानकों वाले वाहन कम प्रदूषण फैलाते हैं। सरकारी तेल कंपनियां बीएस-6 ईंधन सप्लाई के लिए रिफाइनरियों में 28,000 करोड़ रुपए लगाएंगी।

जून 2020 तक का समय चाहती थी सरकार

सरकार चाहती थी कि ऑटो कंपनियों को पुराना स्टॉक बेचने के लिए 30 जून 2020 तक का समय मिले। लेकिन, सुप्रीम कोर्ट की एमिकस क्यूरी अपराजिता सिंह इसके खिलाफ थीं। उन्होंने बिना बीएस-6 मानक वाले भारी वाहनों की बिक्री के लिए 30 सितंबर 2020 तक का समय देने के प्रस्ताव का भी विरोध किया

दिल्ली-NCR पर छाई है प्रदूषण की गहरी चादर, चौंकाती हैं आपके शहर की ये तस्वीरें

नई दिल्ली । दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण लगातार खतरनाक स्थिति में बना हुआ है। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के ऊपर प्रदूषण की चादर धीरे-धीरे मोटी होती जा रही है। बुधवार को ये स्थित और खतरनाक हो गई। बुधवार सुबह से ही दिल्ली-एनसीआर के शहरों के ऊपर प्रदूषण की मोटी चादर छाई हुई है

मालूम हो कि दिल्ली-एनसीआर में हर साल दीपावली से ठीक पहले वायु प्रदूषण जानलेवा स्थिति में पहुंच जाता है। पिछले कुछ वर्षों से प्रदूषण को रोकने के तमाम सरकारी प्रयास किए जा रहे हैं, बावजूद स्थिति में ज्यादा कोई खास सुधार होता नहीं दिख रहा है। दिल्ली-एनसीआर में लोगों को प्रदूषण से राहत दिलाने के लिए केंद्र सरकार ने 1200 करोड़ रुपये का विशेष पैकेज भी काफी पहले से घोषित कर रखा है, लेकिन राज्यों की सुस्ती की वजह से इसका भी खास असर होता नहीं दिख रहा है। जानकारों का मानना है कि हर साल की तरह इस बार भी दिल्ली जल्द ही गैस चेंबर में तब्दील होने वाली है।

मंगलवार को दिल्ली के लोधी रोड पर पीएम10 का स्तर 237 और पीएम 2.5 का स्तर 214 रहा। एयरक्वालिटी इंडेक्स के अनुसार दोनों की स्थिति खराब श्रेणी में है। राजधानी में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण स्तर को देखते हुए दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने सोमवार और मंगलवार को अहम बैठक कर आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

सीएम नीतीश कुमार के साथ चलने को तैयार कन्हैया, लेकिन ये है शर्त…

पटना । भारतीय कम्‍युनिष्‍ट पार्टी (भाकपा) के नेता एवं जवाहरलाल नेहरू विवि (जेएनयू) छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ आने को तैयार हैं, लेकिन उनकी एक शर्त है। उन्‍होंने कहा कि अगर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार देश के संविधान को बचाने के लिए आगे आएं तो वे उनके साथ चलने के लिए तैयार हैं। कन्हैया 25 अक्टूबर को पटना के गांधी मैदान में पार्टी की ओर से आयोजित ‘भाजपा हराओ, देश बचाओ’ रैली को लेकर मीडिया से मुखातिब थे।

जनहित के मुद्दे उठाने वाले बताए जाते राष्‍ट्रविरोधी

केंद्र की पीएम मोदी सरकार की आलोचना करते हुए उन्‍होंने कहा कि आज लोकतंत्र खतरे में है। जनहित के मुद्दों पर आवाज उठाने वालों को राष्ट्रविरोधी बता दबाया जाता है। लोकतंत्र व संविधान के रहने पर ही देश बचेगा। उन्‍होंने कहा कि भाकपा की 25 अक्‍टूबर को पटना के गांधी मैदान में आयोजित रैली ऐतिहासिक होगी।

भाकपा की रैली में शामिल होंगे तेजस्‍वी!

कन्हैया ने कहा कि यह रैली किसी पार्टी को मजबूत करने के लिए नहीं, देश बचाने के लिए आयोजित की गई है। है। इसमें सभी विपक्षी दलों के बुलाया गया है। कांग्रेस की ओर से गुलाम नबी आजाद तथा राजद से तेजस्‍वी यादव भी इसमें शामिल हो सकते हैं।

लड़ सकते हैं लोकसभा चुनाव

मीडिया से बातचीत में कन्हैया ने अपने लोकसभा चुनाव लड़के को लेकर कहा कि अगर पार्टी कहेगी तो जरूर लड़ेंगे।

Ind vs WI: कोहली ने दूसरे वनडे में भी ठोका शतक, इस बार नहीं दोहराई पहली वाली गलती

नई दिल्ली । विशाखापत्तनम में दूसरे वनडे मैच में विराट कोहली ने मौजूदा सीरीज़ का दूसरा शतक ठोक दिया। ये विराट कोहली का वनडे क्रिकेट का 37वां वनडे शतक रहा। इससे पहले गुवाहाटी में खेले गए वनडे मैच में भी विराट ने 140 रन की शानदार पारी खेली थी। इस मैच में विराट कोहली ने वो गलती नहीं की जो उन्होंने पांच साल पहले इसी मैदान पर इसी टीम के खिलाफ की थी।

कोहली ने इस बार नहीं की गलती

विशाखापत्तनम के इस मैदान पर ये विराट कोहली का तीसरा वनडे शतक रहा। इससे पहले कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इसी मैदान पर 2010 में 118 रन की पारी खेली थी। इसके बाद कोहली ने वेस्टइंडीज़ के खिलाफ ही 2011 में यहां पर शतक ठोका था, लेकिन 2013 में इसी मैदान पर कोहली कैरेबियाई टीम के खिलाफ ही 99 रन पर आउट होकर शतक से चूक गए थे। इस बार विराट कोहली ने ये गलती नहीं की और अपने वनडे करियर का 37वां शतक ठोक दिया।

कोहली ने ऐसे ठोका 37वां वनडे शतक

विराट कोहली ने इस मैच में अपना 37वां वनडे शतक लगाने के लिए 106 गेंदों का सामना किया। इस पारी में कोहली के बल्ले से 10 चौके निकले। इस पारी में कोहली ने रायुडू के साथ मिलकर 139 रन की साझेदारी की। इसके बाद रायुडू 73 रन बनाकर आउट हो गए और फिर कोहली ने धौनी के साथ भारतीय पारी को आगे बढ़ाया। इसके बाद धौनी भी 25 गेंदों पर 20 रन बनाकर आउट हो गए। पंत भी अपनी पहली वनडे पारी में 17 रन बनाकर आउट हुए, लेकिन कोहली डटे रहे और उन्होंने एक छोर को मजबूती से थामे रखा।

कोहली ने ऐसे ठोका 37वां वनडे शतक

विराट कोहली ने इस मैच में अपना 37वां वनडे शतक लगाने के लिए 106 गेंदों का सामना किया। इस पारी में कोहली के बल्ले से 10 चौके निकले। इस पारी में कोहली ने रायुडू के साथ मिलकर 139 रन की साझेदारी की। इसके बाद रायुडू 73 रन बनाकर आउट हो गए और फिर कोहली ने धौनी के साथ भारतीय पारी को आगे बढ़ाया। इसके बाद धौनी भी 25 गेंदों पर 20 रन बनाकर आउट हो गए। पंत भी अपनी पहली वनडे पारी में 17 रन बनाकर आउट हुए, लेकिन कोहली डटे रहे और उन्होंने एक छोर को मजबूती से थामे रखा।

Translate »